55+ फुर्सत शायरी 2 लाइन - Fursat Status - फुरसत शायरी


55+ फुर्सत शायरी 2 लाइन - Fursat Statue


दोस्तों हिंदी उर्दू शायरी के इस Post की  Topic "Fursat Shayari" हैं. इसमें आप पढ़ सकते हैं फुर्सत शायरी 2 लाइन, फुर्सत शायरी in Urdu, फुर्सत Status, फुरसत शायरी 4 लाइन, पर बनी बेजोड़ शानदार फुरसत शायरी को, मित्रो आशा करता हूँ कि यह पोस्ट आप सभी शायरी के चाहने वालो को बेहद पसंद आएगी.

Fursat-Shayari-2-Line
Fursat Shayari 2 Line

आईये अपने फुरसत के पलों में बैठ कर " Fursat Statue" की इस पोस्ट की शुरुआत करते हैं और पढ़ते हैं शानदार फुर्सत पे बानी शायरियों के इस लाज़वाब कलेक्शन को. और अपनी पुरानी यादों को तलाशते हैं दी गयी शायरियों के शब्दों में और शेयर करते हैं अपने दोस्तों को अपनी पसंद की शायरी को.


1
उन्हें फुर्सत नहीं हमारे लिए, 
चलो "मन" दीवारों से बात करते हैं।। 



2
तुम्हे फुर्सत नहीं अपनी महफ़िल से 
और हम तुम्हे हर-पल याद करते हैं।।
"मन"

3
खुदा ने बड़ी फुर्सत से बनाया हैं तुम्हे 
तभी तो आज तक कोई तुमसा नहीं देखा।।
"मन"

4
आज सुबह से ही हिचकिया आ रही हैं "मन"
लगता हैं आज उन्हें फुर्सत मिल ही गयी
मुझे याद करने की।।

   फुरसत शायरी 4 लाइन   

5
लगता हैं उन्हें अब फुर्सत नहीं मिलती 
मुझे याद करने की "मन"
तभी तो अब हिचकिया आती नहीं।।

6
चलो छत से ही सही, "मन"
मेरे जनाजे को देखने की फुर्सत उन्हें मिली।।

7
मुझे दिल से भुलाने वाले, 
कभी फुर्सत से बैठना फिर सोचना,
मेरा कसूर क्या था?
"मन"

8
बड़ी फुर्सत से बैठे हैं आज 
तेरी यादों के ख़ज़ाने को लेकर "मन"
इन्हे देख कर ऑंखें छलक आयी तो 
मैं क्या करू?
____________________________________
____________________________________

9
बड़ी फुर्सत में रहती हो तुम 
चली आती हो दिन-रात यादो में।।
"मन"

10
बड़ी फुर्सत से कमरे की तन्हाईयों में बैठे रहते हैं, 
पता हैं क्यू? तुम्हे याद करने के लिए।।
"मन"

11
खत्म कर दी थी जिन्दगी की हर खुशियाँ तुम पर,
कभी फुर्सत मिले तो सोचना मोहब्बत किस ने की थी।।

Khatm Kar Di Thi Zindagi Ki Har Khushiyan Tum Par,
Kabhi Fursat Mile To Sochana Mohabbat Kisne Ki Thi...

12
मंजिल पे पहुँचकर लिखूंगा मैं इन रास्तों की मुश्किलों
का जिक्र अभी तो बस आगे बढ़ने से ही फुरसत नही।।

13
हमें फुरसत नहीं मिलती कभी आंसू बहाने से
कई ग़म पास आ बैठे तेरे एक दूर जाने से।।

14
जब हो थोड़ी फुरसत, तो अपने मन की बात हमसे कह लेना,
बहुत खामोश रिश्ते कभी जिंदा नहीं रहते।।

   Fursat Shayari   

15
मुझे तेरे सिवा कुछ सोचने की फुरसत नहीं,
ओर तुम कहते हो में तुम्हें भूल जाऊँ।।

16
गुज़र गया आज का दिन पहले की तरह,
ना हम को फुर्सत मिली ना उनको ख्याल आया।।

17
तेरे पास भी कम नहीं, मेरे पास भी बहुत हैं,
ये परेशानियाँ आजकल फुर्सत में बहुत हैं।।

18
तुम्हे गेरौ से कब फुरसत, हम अपने ग़म से कब खाली’
चलो बहुत हो गया मिलना, ना तुम खाली ना हम खाली।। 


19
तुम ताल्लुक तोड़ने का जिक्र किसी से भी ना करना,
हम लोगों से कह देंगे कि उन्हें फुर्सत नहीं मिलती।।

20
मोहब्बत करने से फुरसत नहीं मिली यारो..
वरना हम करके बताते नफरत किसको कहते है।।

21
कभी मिले तुम्हे फुर्सत तो इतना जरुर बताना,
वो कौन सी?  मौहब्बत थी हम तुम्हे दे ना सके।।

22
फुरसत मिले तो चाँद से मेरे दर्द की कहानी पुछ लेना,
एक वही तो है हमराज मेरा तेरे सो जाने के बाद।।

23
तुम्हें जब कभी मिले फ़ुरसतें मेरे दिल से बोझ उतार दो,
मैं बहुत दिनों से उदास हूँ मुझे कोई शाम उधार दो।।

   फुरसत शायरी 4 लाइन   

24
फुर्सत अगर मिलें तो मुझे पढ़ना जरूर,
मैं तेरी उलझनों का मुकम्मल जवाब हूँ।।

25
मसरुफ रहने का अंदाज आपको तन्हा ना कर दे,
रिश्ते फुरसत के नही, तवज्जो के मोहताज़ होते हैं।। 

   फुर्सत शायरी in Urdu   

26
कमाल करता है ऐ दिल तू भी,
उसे फुरसत नहीं और तुझे चैन नहीं।।

55+ फुर्सत शायरी 2 लाइन - Fursat Statue


27
फुर्सत में ही याद कर लिया करो हमें,
दो पल मांगते है पूरी जिंदगी तो नहीं।। 

28
उनको तो फुरसत नहीं,
दीवारो तुम ही बात कर लो मुझसे।।

29
काश  तुझे कभी फुरसत में ये खयाल आ जाए,
की कोई याद करता है तुम्हें जिन्दगी समझकर।।
____________________________________

30
तमाम लोगों का हाल जाना तमाम लोगों से बात की,
कभी फुर्सत ही न मिल सकी खुद से मुलाकात की।।

31
तेज रफ़्तार ज़माने में फुरसत में बड़े हैं लोग,
मेरी बातें करते हुए चौराहों पर खड़े हैं लोग।।


32
मिल जाए उलझनों से फुर्सत तो जरा सोचना,
क्या सिर्फ फुरसतों मे याद करने तक का रिश्ता है हमसे।।

33
दिल ने आज फिर तेरे दीदार की ख्वाहिश रखी है,
अगर फुरसत मिले तो ख्वाबों मे आ जाना।।

34
अधूरे मिलन की आस हैं जिंदगी,
सुख-दुःख का एहसास हैं जिंदगी,

फुरसत मिले तो ख्वाबो में आया करो,
तुम्हारे बिना बड़ी उदास हैं जिंदगी।।

35
खुद से मिलने की भी फुरसत नहीं है अब मुझे,
और वो औरो से मिलने का इल्ज़ाम लगा रहे है।।

36
अभी मसरूफ हूँ काफी कभी फुर्सत में सोचूंगा,
कि तुझको याद रखने में, मैं क्या-क्या भूल जाता हूँ।।

37
 ये जो चंद फुर्सत के लम्हे मिलते हैं जीने के लिए, 
मैं उन्हें भी तुम्हे सोचते हुए ही खर्च कर देता हूँ।।

38
पतझड़ को भी तू फुर्सत से देखा कर ऐ दिल,
बिखरे हुए हर पत्ते की अपनी अलग कहानी है।।

39
नहीं फुर्सत यक़ीन मानो हमें कुछ और करने की, 
तेरी यादें, तेरी  बातें, बहुत मशरूफ रखती हैं।।

   Fursat Shayari   

40
काश  उनको कभी फुर्सत में ये ख्याल आए,
कि कोई याद करता है, उन्हें जिन्दगी समझ कर।।

41
हजूम ए दोस्तों से जब कभी फुर्सत मिले,
अगर समझो मुनासिब तो हमें भी याद कर लेना।।

42
फुर्सत मिले तो उन का हाल भी पूछ लिया करो,
 जिन के सीने में दिल की जगह तुम धड़कते हों।।

Fursat Mile To Un Ka Haal Bhi Puchh Liya Karo
Jin Ke Seene Me Dil Ki Jagah Tum Dhadate Ho.

   फुरसत शायरी 4 लाइन   

43
 फुर्सत मिले तो कभी हमें भी याद कर लेना फ़राज़,
 बड़ी पुर रौनक होती हैं यादें हम फकीरों की।।

Fursat Mile To Kabhi Hamein Bhi Yaad Kar Lena Faraz
Badi Pur Raunak Hoti Hai Yaadein Hum Faqiron Ki.

   फुर्सत शायरी in Urdu   

44
Attitude की 👉 चमक और मिर्ची की जलन 😡
क्या होती है सब 👉 दिखा देंगे 👀
फिलहाल फुर्सत नहीं  है ❌
फुर्सत मिली तो 👉 तेरी औकात ❌ भी 👀 दिखा 👉 देंगे।। 

45
मंहगीं तो फुर्सत है जनाब सुकुन तो आज भी सस्ता है,
चाय की प्याली में भी मिल जाता है।।

46
फुर्सत निकाल कर आओ कभी मेरी महफ़िल में,
लौटते वक्त दिल नहीं पाओगे अपने सीने में।।

Fursat Nikaal Kar Aao Kabhi Meri Mahafil Me,
Lautate Waqt Dil Nahi Paaoge Apane Seene Me 

47
काश उसको  भी कभी फुर्सत मे ये ख्याल  आ जाये कि,
कोई याद  करता है उसे जिन्दगी समझकर।।

Kash Usako Bhi Kabhi Fursat Me Ye Khyaal Aa Jaye Ki
Koi Yaad Karata Hai Use Zindagi Samjh Kar.

48
जो फुर्सत मिले तो मुड़कर देख लेना, 
मुझे एक दफ़ा ।।

Jo Fursat Mile To  Mudkar Dekh Lena
Mujhe Ek Dafa 

  Fursat Statue  

49
फुर्सत मिले तो उनका भी हाल पूछ लिया करो,
जिनके सीने में दिल की जगह तुम धड़कते हो।।
____________________________________

50
फुर्सत मिले तो आना कभी दिल की गलियों तक
हम धड़कनों में अपनी तुम्हारा नाम सुनाएंगे।।

Fursat Mile To Aana Kabhi
Dil Ki Galiyo Tak
Ham Dhadakano Me Aapni
Tumhaara Naam Sunayenge

   Fursat Shayari   

51
खत्म कर दी थी जिंदगी की हर खुशियां तुम पर,
कभी फुर्सत मिले तो सोचना मोहब्बत किसने की थी?
तुम एकलौते वारिस हो मेरे सारे प्यार के।।


52
सब कुछ मिला सुकून की दौलत नहीं मिली, 
एक तुझको भूल जाने की मौहलत नहीं मिली, 

करने को बहुत काम थे अपने लिए मगर, 
हमको तेरे ख्याल से कभी फुर्सत नहीं मिली।।

53
जमाना ख़राब कर रही हैं ये बेटियां नवाब की,
ना सर पे लाज का दुपट्टा ना फुर्सत है हिजाब की।।


दोस्तों आशा करता हूँ की "   55+ फुर्सत शायरी 2 लाइन - Fursat Status  " यह भी पोस्ट पसंद आया होगा आप सभी को और आपने पढ़ा होगा "फुरसत Shayari" फुर्सत शायरी in Urdu, फुर्सत Statue, फुरसत शायरी 4 लाइन, के इस कलेक्शन को दोस्त अगर यह पोस्ट आपके दिल को छू लिया हो तो इसे जरूर से शेयर करे ताकि इस कलेक्शन को और भी दोस्त पढ़ सके. धन्यवाद आप सभी का आपने इस पोस्ट को अपना प्यार दिया.


No comments