Thursday, 27 April 2017

Best Quotes By Indira Gandhi In Hindi


इन्दिरा गांधी के ढेरो अनमोल वचन और विचार 

स्वतंत्र भारत की प्रथम महिला एवं अभी तक की प्रथम महिला प्रधानमंत्री  इंदिरा गांधी को कौन नहीं जानता. भारत ही नहीं पुरे विश्व में पहचान एक सशक्त राजनैतिक नेता के रूप में थी, उन्हें लोह महिला (Iron Lady) के नाम से भी जाना जाता हैं और इसी नाम से संबोधन भी किया जाने लगा था... आज भी भारतीय इतिहास में उनकी राजनीतिक प्रतिभा  और  दृढ़ता के लिए  लोहा माना  जाता हैं..
Best-Quotes-By-Indira-Gandhi-In-Hindi
Best Quotes By Indira Gandhi In Hindi 

इंदिरा जी का जन्म उत्तर प्रदेश के इलाहाबाद में 19 नवंबर 1917 को हुआ था. इंदिरा जी के पिता का नाम पंडित जवाहरलाल नेहरु और उनके दादा जी का नाम मोतीलाल नेहरु था.. और माता का नाम कमला नेहरु था.  इंदिरा जी भारत के प्रथम प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरु जी  की इकलौती संतान थीं. . इंदिरा जी का एक  छोटा भाई था उसकी मृत्यु बचपन में ही हो गयी थी.
इंदिरा नाम उनके दादा मोतीलाल नेहरु ने रखा था.  इंदिरा जी बचपन से ही सुन्दर थी इस लिए इंदिरा प्रियदर्शिनी नाम मिला था और नेहरू जी उन्हें प्रियदर्शिनी के नाम से बुलाते थे.. उनका परिवार आर्थिक एवं बौद्धिक दृष्टि से काफी  संपन्न था 

शिक्षा :-
प्रारम्भिक शिक्षा  की शुरुआत घर से ही शुरू हुयी और उनको घर पर ही टीचर पढ़ाने आते थे.. मैट्रिक की पढाई उन्होंने स्कूल से की और उसके बाद वो अपनी माता जी के साथ बेलूर मठ चली आई जहा और वही उन्होंने शांति निकेतन के विश्व भारती विश्वविद्यालय में प्रवेश लिया और वह से पढाई अपनी आगे की शुरू की और उसी जगह उनकी मुलाकात रवीन्द्रनाथ टैगोर से हुयी और रवीन्द्रनाथ टैगोर ने इंदिरा जी का नाम रखा इंदिरा प्रियदर्शिनी नेहरु. और उसके बाद इंदिरा जी को इंदिरा प्रियदर्शिनी नेहरु के नाम से भी जाना जाने लगा क्युकी इंदिरा दिखने में के अत्यंत सुन्दर थीं.. नेहरू जी तो सिर्फ  प्रियदर्शिनी कहकर ही बुलाते थे..

इंदिरा जी की माँ कमला नेहरु की तबियत ख़राब रहने लगी और बीमार के कारण उनका स्वर्गवास हो गया.. और इसी कारण इंदिरा जी को विश्वविद्यालय को छोड़ कर माँ की आखरी इक्छा के अनुसार यूरोप जाना पड़ा और वह जा कर ऑक्सफ़ोर्ड में दाखिला लिया पढाई के लिए लेकिन  यूरोप में रहने के कारण कई बार बीमार हो गयी जिसके कारण उन्हें बार बार स्विटजरलैंड जाना पड़ता था और उसके कारण उनकी पढाई का बहुत नुकसान होता था.. और इसी कारण ऑक्सफ़ोर्ड से 1941 में अपनी पढाई को छोड़ कर भारत आना पड़ा.. फिलहाल उनको डिग्री  ऑक्सफ़ोर्ड ने दी बाद में.. 

शादी :-
बताते चले की फिरोज गांधी से मुलाकात उनकी ग्रेट ब्रिटेन में ही हुयी थी.. उन्हें इलाहाबाद से ही जानती थी उन्हें.. फीरोज गांधी और इंदिरा जी की शादी  1950 में हुयी थी, और शादी के बाद इंदिरा जी को इन्द्र गाँधी के नाम से जाना जाने लगा ...

राजनीति में कदम :-
बचपन से ही इंदिरा जी ने पूरा राजनैतिक माहौल अपने घर पर देखा जिसके कारण उसका प्रभाव उनपर पड़ा. और उनका झुकाव राजनीति की ओर शुरू से ही रहा लन्दन में अपनी पढाई के दौरान ही उन्होंने इंडियन लीग’ की  सदस्यता ली.  जब वो पढाई छोड़ कर भारत आई तब से ही भारतीय स्वतन्त्रता आन्दोलन में शामिल हो स्वतन्त्रता के खिलाफ आन्दोलन शुरू कर दिया जिसके कारण उनकी गिरफ्तारी भी हुयी सितम्बर 1942 फिर उन्हें मई 1943 में छोड़ा गया...

इंदिरा जी विरासत के रूप में मिली थी राजनीतिक ज्ञान और पिता इस ज्ञान में वृद्धि अपने पिता पंडित  जवाहरलाल नेहरू के साथ रह कर और उनकी  मदद करते-करते उन्हें और ज्यादा राजनीति  समझ हो गयी थी जिसके कारण, 1955 में कांग्रेस पार्टी ने अपनी कार्यकारिणी  में उन्हें शामिल कर लिया. और इसी लिए नेहरू जी भी इंदिरा जी से  राजनैतिक सलाह लिया करते थे और उसे मानते भी थे. 

और इसी लिए कांग्रेस पार्टी में उनका कद समयानुसार बढ़ता गया और सन 1959 कांग्रेस की अध्यक्ष बन गयी उस वक़्त उनकी उम्र 42 वर्ष थी, और अध्यक्षा बनते ही कांग्रेस पार्टी में दबी आवाज़ में आरोप लगाने लगा की नेहरू जी पार्टी में परिवारवाद फैला रहे हैं... पर ये आवाज़ ज्यदा देर तक ना गुज सकी ...

जब नेहरू जी का निधन हुआ तो इसके बाद का चुनाव इंदिरा जी ने जीता और शाष्त्री जी की सरकार में वे में सूचना और प्रसारण मंत्री बन गईं. और इस नए दायित्व को बड़ी सुझबुझ के साथ निर्वहन किया. सूचना और प्रसारण मंत्री होने के कारण उन्होंने आकाशवाणी के कार्यक्रमों को मनोरंजक बनाया तथा उसे अत्यधिक लोकप्रिय बनाया इसी आकाशवाणी के कार्यक्रमों द्वारा 1965 में हुए भारत-पाकिस्तान युद्ध के दौरान सैनिको का मनोबल बढ़ाया गया और सैनिको की  राष्ट्रीयता भावना को मजबूत किया विविध प्रकार के कार्यक्रमों से ... और इसी तरह उनकी राजनीति कद और बढ़ता गया और वो पहली भारत की प्रधानमंत्री बनी..

प्रधानमंत्री पद पर :-
  • भारत के इतिहास में पहली बार महिला प्रधानमंत्री के रूप में इंदिरा जी 1967 में प्रधानमंत्री बनी.
  • उसके बाद प्रचंड बहुत से  सन 1971 एक बार पुनः प्रधानमंत्री बनी सन 1971 से 1977 तक.. 
  • चौथी बार सत्ता में लौटी 1980 में और उनका कार्यकाल  रहा 1980 से 1984 तक..  
  • स्वतंत्र भारत की पहली महिला प्रधानमंत्री इंदिरा जी 4 बार प्रधानमंत्री बनी. और उन्होंने लगातार तीन बार 1966 से 1977 तक भारत की प्रधानमंत्री रही और उसके बाद चौथी बार उन्हें 1980 से 1984 तक 

मृत्यु :-
श्रीमती गाँधी के आवास पर दो सिक्ख अंगरक्षकों ने 31 अक्टूबर 1984 में गोली मारकर हत्या कर दी

दोस्तों आईये इस आर्टिकल में पढ़ते हैं इंदिरा जी के कहे गए अनमोल विचार 


 सवाल करने की ताकत मानव उन्नति का आधार है..


 Saval Karne Ki Takat Manav Unnati Ka Aadhar Hai.. 

Best Quotes By Indira Gandhi In Hindi 

 कभी भी किसी दीवार को तब तक ना गिराओ, 
 जब तक आपको ये पता ना हो कि यह किस काम के लिए खड़ी की गई थी..


  Kabhi Bhi Kisi Devar Ko Tab Tak Na Gerao,
  Jab Tak Aapko Ye Pata Na Ho Ki Yah KIsh KAm Ke LIye Khadi Ki Gaye Thi...



 वहां प्रेम नहीं है जहां इच्छा नहीं है... 


 Vaha Prem Nahi Hai Jaha Icha Nahi Hai...

Famous Quotes by Indira Gandhi 

 उन  मंत्रियों  से  सावधान  रहना  चाहिए  जो,
  बिना  पैसों  के  कुछ  नहीं  कर  सकते, 
 और  उनसे  भी  जो  पैसे  लेकर  कुछ  भी  करने  की  इच्छा  रखते  हैं..


 Un Mantriyon Se Savdhan Rahna  Chahiye Jo,
 Bina Peseon  Ke Kuch Nahi Kar Sakte,
 Aur Unse Bhi Jo  Pese Lekar Kuch Bhi Karne Ki Iccha  Rakhte Hain....



 संतोष प्राप्ति में नहीं, बल्कि प्रयास में होता है,
 पूरा प्रयास पूर्ण विजय है....


 Santosh Prapti Me Nahi Balki Pryash Me Hota Hai,
  Pura Pryash Purn Vijay Hai...

Best Quotes By Indira Gandhi In Hindi 

 लोग  अपने  कर्तव्यों  को  भूल  जाते  हैं,
  पर  अधिकारों  को  याद  रखते  हैं...


 Log Apne  Kartabyo Ko Bhul Jate Hai,
  Par Adhikaro Ko Yad Rakhte Hai....



 मेरे  पिता  एक  राजनेता  थे , 
 मैं  एक  राजनीतिक  औरत  हूँ, 

 Mere Peta Ek Rajneta The,
 Me Ek Rajnetick Aurat Hun ...


 मेरे  पिता  एक  संत  थे, मैं  नहीं  हूँ..


 Mere Peta Ek Sant The Me Nahi Hun..

Famous Quotes by Indira Gandhi 

 कभी मत भूलों कि जब हम चुप हैं, 
 तो हम एक हैं और जब हम बात करते हैं तो हम दो हैं...


 Kabhi Mat Bholon KI Jab Hum Chup Hai,
 To Hum Ek Hai Aur Jab Hum Bat Karte Hain To Hum Do  Hain....
Famous Quotes by Indira Gandhi 

 क्षमा वीरों का गुण है..


 Chhma  Veero Ka Gun Hai..

Best Quotes By Indira Gandhi In Hindi 

 शहीद होने से कुछ खत्म नहीं होता, ये तो एक शुरुआत है...


 Shaid Hone Se Kuch Khatam Nahi Hota,
 Ye To Ek Suruvat Hai...

इन्दिरा गांधी के ढेरो अनमोल वचन और विचार 

 आप बंद मुट्ठी से हाथ नहीं मिला सकते... 


 Aap band Mutthi Se Hath Nahi Mila Sakte..



 प्रश्‍न करने का अधिकार मानव प्रगति का आधार है...


  Prashn Karne Ka Adhikar Manav Praghti Ka Aadhar Hai..


अगर देश की सेवा करते-करते मेरी मौत भी हो जाये तो,
 मुझे गर्व महसूस होगा.
 मेरे खून की हर एक-एक बूँद,
 देश के विकास और इसे मजबूत बनाने में  एहम योगदान देगी..


 Agar Desh Ki Sewa Karte -Karte Meri Maut Bhi Ho Jaye To,
 Mujhe Garv Mahsush Hoga.
 Mere Khoon Ki Har Ek-Ek Bund,
 Desh Ke Vikash Aur Eshe Majbut Banane Me Aham Yogdan  Degi...

Best Quotes By Indira Gandhi In Hindi 

 देशों के बीच के शांति, व्‍यक्तियों के बीच प्‍यार की ठोस बुनियाद पर  टिकी होती है...


 Deshon Ki Bich Ke Shanti Vykityon Ke Bich Pyar Ki Thos  Buneyad Par Teki Hoti Hai...

Famous Quotes by Indira Gandhi 

 लोग अपने कर्तव्यों को भूल जाते हैं,
 पर अधिकारों को याद रखते हैं... 


 Log Apne Kartvyo Ko Bhul Jate Hai,
 Par Adhikaron Ko Yad Rakhte Hai ...

इन्दिरा गांधी के ढेरो अनमोल वचन और विचार 

 जब आप एक योजना को छोटे छोटे चरणों में बाँट देंगे, 
 तो आप पहला कदम तुरंत ही उठा सकते हैं...


 Jab Aap Ek Yojna Ko Chote Chote Charno Me Bant Denge,
 To Aap Phala Kadam TUrant HI Utha Sakta Hai....


 अपने आप को खोजने का सबसे अच्‍छा तरीका यह है कि,
 आप अपने आप को दूसरों की सेवा में खो दें...


 Apne Aaap Ko Khojne Sabse Accha Tarika Yah Hai KI,
 Aap Apne Aap Ko Dusro KI Seva Me Kho Den...


  Note: दोस्तों बहुत सावधानी बरतने के बावजूद यदि ऊपर दिए गए किसी भी वाक्य या Quote में आपको कोई त्रुटि मिले तो कृपया हमें क्षमा करें और comments के माध्यम से अवगत कराएं ताकि उन त्रुटियों को सुधार सके हम. आशा हैं की आप हमारा साथ देंगे  धन्यवाद    
विश्व प्रसिद्द लेखकों और विद्वानों द्वारा लिखे गए और बोले गए अनमोल विचार एवं कथनों को और ज्यादा पढ़ने और जानने के लिए नीचे दिए गए लिंक पर जाते..
Previous Post
Next Post

About Author

0 comments: