शानदार 55 महफ़िल पर शायरी - Mahafil Status, Shayari In Hindi


शानदार 55 महफ़िल पर शायरी  - Mahafil Status, Shayari In Hindi


आज की पोस्ट 2 Line महफ़िल Status Hindi की हैं जिसमे पढ़ सकते हैं, "महफ़िल पर शायरी Facebook", महफ़िल पर शायरी 4 Line और महफ़िल पर शायरी One Line शायरी के "Mahafl Status In Hindi"


Mahafil-Status-Shayari-In-Hindi


आईये दोस्तों अब पढ़ते हैं महफ़िल शायरी के इस लाज़वाब कलेक्शन को जिसे अगल अलग सोशल मिडिया के माध्यम से संग्रह किया गया हैं खास आप सभी शायरी के चाहने वालो के लिए

 


📖 1
मेरे लफ़्ज़ों को महफूज कर लो दोस्तों.
हमारे बाद बहुत सन्नाटा होगा, इस ✒  महफ़िल में.

Mere Labzo Ko Mafafuz Kar Lo Dosto,
Hamaare Baad Bahut Sannata Hoga Is Mahfil Me

📖 2
उस अजनबी से हाथ मिलाने के वास्ते
✒  महफ़िल में सब से हाथ मिलाना पड़ा मुझे. 

Us Ajanabi Se Hath Milane Ke Vaste,
Mahafil Me Sab Se Hath Milaana Pada


📖 3
इतनी चाहत से न देखा कीजिए ✒  महफ़िल में आप
 शहर वालों से हमारी दुश्मनी बढ़ जाएगी. 

Itani Chahat Se Na Dekha Kijiye Mahafil Me Aap,
Shahar Walo Se Hamaari Dushamani Badh Jaayegi

📖 4
एक महफ़िल में कई ✒ महफ़िलें होती हैं शरीक 
जिस को भी पास से देखोगे अकेला होगा 
निदा फ़ाज़ली

Ek Mahafil Me Kayi Mahafile Hoti Hai Sharik,
Jis Ko Bhi Paas Se Dekhoge Akela Hoga

📖 5
मुझ तक उस ✒ महफ़िल में फिर जाम-ए-शराब आने को है 
उम्र-ए-रफ़्ता पलटी आती है शबाब आने को है. 
फ़ानी बदायुनी

Mujh Tak Us Mahafil Me Fir Jaam-E-Sharaab Aane Ko Hai,
Umr-E-Rftaa Palati Aati Hai Shabaab Aane Ko Hai

महफ़िल पर शायरी


📖 6
तुम्हारा जिक्र हुआ तो ✒ महफ़िल छोड़ आये,
गैरों के लबों पे तुम्हारा नाम अच्छा नहीं लगता.

Tumhaara Zikr Hua To Mahafil Chhod Aaye,
Gairo Ke labo Pe Tumhaara Naam Achchha Nahi Lagata

📖 7
मैंने आंसू को समझाया, भरी ✒  महफ़िल में ना आया करो,
आंसू बोला, तुमको भरी महफ़िल में तन्हा पाते है,
इसीलिए तो चुपके से चले आते है.

Maine Ansu Ko Samjhaya, Bhari Mahafil Me Naa Aaya Karo,
Ansu Bola Tumako Bhari Mahafil Me Tnnha Paate Hai.
Isliye To Chupake Se Chale Aate Hai

📖 8
देख के हमको वो सर झुकाते हैं,
बुला कर  महफ़िल में नजरें चुराते हैं,

नफरत हैं तो कह देते हमसे,
गैरों से मिलकर क्यों दिल जलाते हैं..

Dekh Ke Hamako Wo Sar Jhukaate Hain,
Bula Kar Mahafil Me Nazare Churaate Hai

Nafarat Hai To Kah Dete Hamako.
Gairo Se Milkar Kyu Dil Jalaate Hai 

📖 9
मुझे गरीब समझ कर ✒ महफिल से निकाल दिया,
क्या चाँद की ✒ महफिल मे सितारे नही होते.

Mujhe Garib Samjhkar Mahafil Se Nikaal Diya,
Kya Chand Ki Mahafil Me Sitaare Nahi HOte

📖 10
तमन्नाओ की ✒ महफ़िल तो हर कोई सजाता है,
पूरी उसकी होती है  जो तकदीर लेकर आता है.

Tamannaon Ki Mahafil To Har Koi Sajataa Hai,
Puri UsAKI hOti Hai Jo Takdir Lekar Aata Hai 

📖 11
गम ना कर ज़िंदगी बहुत बड़ी है,
चाहत की ✒ महफ़िल तेरे लिए सजी है,

बस एक बार मुस्कुरा कर तो देख,
तक़दीर खुद तुझसे मिलने बाहर खड़ी है.

Gam Na Kar Zindagi Bhaut Badi Hai,
Chahat Ki Mahafil Tere Liye Saji Hai,

Bas Ek Baar Muskura Kar To Dekh
Taqdir Khud Tujhase Milane Bahaar Khadi Hai 

Mahafil Status


📖 12
फुर्सत निकाल कर आओ कभी मेरी ✒ महफ़िल में,
लौटते वक्त दिल नहीं पाओगे अपने सीने में

Fursat Nikaal Kar Aao Kabhi Meri Mahafil Me,
Lautate Waqt Dil Nahi Paaoge Apane Seene Me 

📖 13
देखी जो नब्ज़ मेरी तो हंस कर बोला हकीम,
के तेरे मर्ज का इलाज़ ✒ महफ़िल है दोस्तों की

Dekhi Jo Nabz Meri To Hans Kar Bola Hakim,
Ke Tere Marz Ka Ilaaz Mahafil Hai Dosto Ki 


📖 14
कोई बेताब कोई मस्त कोई चुप कोई हैरान,
तेरी ✒ महफ़िल में इक तमाशा है जिधर देखो

Koi Betaab Koi Mast Koi Chup Koi Hairaan,
Teri Mahafil Me Ek Tamaasha Hai Jidhar Dekho 

📖 15
शायरों की बस्ती में कदम रखा तो जाना,
ग़मों की ✒ महफ़िल भी कमाल जमती है

Shayaro Ki Basti Me Kadam Rakha To Jaana,
Gamo Ki Mahafil Bhi Kamaal Jamati Hai 

📖 16
ये न जाने थे की उस ✒ महफ़िल में दिल रह जायेगा,
समझे थे कि चले आयेंगे दम भर देख कर

Ye Naa Jaane The Ki Us Mahafil Me Dil Rah Jaayega
Samjhe The Ki Chale Aayenge Dam Bhar Dekh Ke 

📖 17
जाने कब-कब किस-किस ने कैसे-कैसे तरसाया मुझे,
तन्हाईयों की बात न पूछो ✒ महफ़िलों ने भी बहुत रुलाया मुझे

Jaane Kab-Kab Kis-Kis Ne Kaise-Kaise Tarsaaya Mujhe,
Tanhaayiyon Ki bat Naa Puchho Mahafilo Ne Bahut RuLAAYA mUJHE 

📖 18
अगर देखनी है कयामत तो चले आओ हमारी महफिल मे. .
सुना है आज की ✒ महफिल मे वो बेनकाब आ रहे हैँ

Agar Dekhani Hai Qyaamat To Chale Aao Hmari Mahafil Me
Suna Hai Aaj Ki Mahafil Me Wo Benakaab Aa Rahe Hai 

📖 19
फ़रेब-ए-साक़ी-ए-महफ़िल न पूछिए "मजरूह"
शराब एक है बदले हुए हैं पैमाने 
मजरूह सुल्तानपुरी

Fareb-E-Saki-E-Mhafil Na Puchhiye "Maharuh"
Sharaab Ek Hai Badale Huye Hain Paimaane 

📖 20
तुम बताओ तो मुझे किस बात की सजा देते हो
मंदिर में आरती और ✒ महफ़िल में शमां कहते हो

मेरी किस्मत में भी क्या है लोगो जरा देख लो
,तुम या तो मुझे बुझा देते हो या फिर जला देते हो

Tum Batao To Mujhe Kis Baat Ki Saza Dete Ho,
Mandir Me Aarati Aur Mahafil Me Shamaan Kahate Ho

Meri Kisamat Me Kya Hai Logo Jara Dekh Lo
Tum Ya To Mujhe Bujhaa Dete Ho Yaa Fir Jala Dete Ho 

📖 21
यूँ चले जाते हैं 
 अपनी ही ✒ महफ़िल से रुखसत होकर 
 यूँ दिल को लगाकर जलाना कोई उनसे सीखे.

Yu Chale Jate Hain,
Apani Hi Mahafil Se Ruksat Hokar
Yun Dil Ko Lagaakar Jalaana Koi Unase Sikhe 

📖 22
मेरी आवाज़ को महफूज कर लो,मेरे दोस्तों,
 मेरे बाद बहुत सन्नाटा होगा तुम्हारी ✒ महफ़िल में.  

Meri Aawaz Ko Mahafuj Kar Lo, Mere Dosto.
Mere Baad Bahut Sannata Hoga Teri Mahafil Me 

📖 23
दुश्मन को कैसे खराब कह दूं ,
 जो हर ✒ महफ़िल में मेरा नाम लेते है.

Dushaman Ko Kaise Kharaab Kah Dun,
Jo Har Hahafil Me Mera Naam Lete Hai 

📖 24
उस से बिछड़े तो मालूम हुआ की 
  मौत भी कोई चीज़ है फ़राज़
  ज़िन्दगी वो थी जो हम उसकी 
  ✒ महफ़िल में गुज़ार आए.


Us Se Bichhade To Maloom Hua Ki 
Maut Bhi Koi Cheez Hai 'Faraaz'

Zindagi Wo Thi Jo Ham Uski 
Mahafil Mein Gujaar Aaye 
📖 25

कल लगी थी शहर में बद्दुआओं की ✒ महफ़िल
मेरी बरी आई तो मैंने कहा 
इसे भी इश्क़ हो इसे भी इश्क़ इसे भी इश्क़ हो

Kal Lagi Thi Shahar Me Bachuaao Ki Mahafil 
Meri Baari Aayi To maine Kaha 
Ise Bhi Ishq Ho Ise Bhi Ishq Ise Bhi Ishq Ho 


📖 26
कल लगी थी शहर में बद्दुआओं की ✒ महफ़िल
मेरी बारी आई तो मैंने कहा
इसे भी इश्क़ हो इसे भी इश्क़ इसे भी इश्क़ हो.

Kal Lagi Thi Shahar Me Badduaaon Ki Mahafil,
Meri Baari Aayi To Maine Kaha.
Ise Bhi Ishk Ho, Ise Bhi Ishk Ho, Ise Bhi Ishk Ho 

📖 27
इतनी चाहत से न देखा कीजिए ✒ महफ़िल में आप,
शहर वालों से हमारी दुश्मनी बढ़ जाएगी.

Itani Chahat Se Na Dekha Kijiye Mahafil Me Aap,
Shahar Walo Se Hamari Dushamani Badh Jayegi 

📖 28
✒ महफ़िल में कुछ तो सुनाना पड़ता है
ग़म छुपा कर मुस्कुराना पड़ता है
कभी हम भी  उनके अज़ीज़ थे
आज-कल ये भी उन्हें याद दिलाना पड़ता है

Mahafil Me Kuchh To Sunaana Padata Hai,
Gham Chhupa Kar Muskuraana Padata Hain 

Kabhi Ham Bhi Ajij The,
Aaj-Kal Ye Bhi Unhe Yaad Dilaana Padata Hai 

📖 29
जाने क्या ✒ महफ़िल-ए-परवाना में देखा उस ने 
फिर ज़बाँ खुल न सकी शम्अ जो ख़ामोश हुई 
अलीम मसरूर

Jaane Kya Mahafil-E-Parwaana Me Dekha Us Ne,
Fir Jabaan Khul Naa Saki Shama Jo Khamosh Huyi 

📖 30
जल्वा-गर बज़्म-ए-हसीनाँ में हैं वो इस शान से 
चाँद जैसे ऐ "क़मर" तारों भरी ✒ महफ़िल में है 
क़मर जलालवी

Jalwa-Gar Bazm-E-Haseena Me Hai Wo Is Shaan Se,
Chand Jaise E "Kamar" Taaro Bhari Mahafil Me Hai 

📖 31
यही सोच के रुक जाता हूँ मैं आते-आते,
फरेब बहुत है यहाँ चाहने वालों की ✒ महफ़िल में

Yahi Soch Ke Ruk Jata Hun Main Aate-Aate
Fareb Bahut Hain Yaha Chahane Walo Ki Mahafil Me 

📖 32
वो अपने मेहंदी वाले हाथ मुझे दिखा कर रोई,
अब मैं हुँ किसी और की, ये मुझे बता कर रोई,

कैसे कर लुँ उसकी महोब्बत पे शक यारो,
वो भरी ✒ महफिल में मुझे गले लगा कर रोई.

Wo Apane Mehandi  Wale Hath Mujhe Dikha Kar Royi,
Ab Main Hun Kisi Aur Ki Ye Mujhe Bata Kar Royi 

Kiase kAR Lu UsAKI MoHABBAT Pe Shak Yaaro,
Wo Bhari Mahafil Me Mujhe Gale Laga Kar Royi 

📖 33
हमारे बाद अब ✒ महफ़िल में अफ़साने बयां होंगे
बहारे हमको ढूँढेंगी ना जाने हम कहाँ होंगे

ना हम होंगे ना तुम होंगे और ना ये दिल होगा फिर भी
हज़ारो मंज़िले होंगी हज़ारो कारँवा होंगे

Hamaare Baad Ab Mahafil Me Afasaane Banya Honge
Bahaare Hamako Dhundhegi Naa Jaane Ham Kanha Honge,

Naa Ham Honge Naa Tum Hoge Aur Naa Ye Dil Honga Fir Bhi
Hazaaro Manzile Hongi Hazaaron Karawa Honge 

Mahafil Status


📖 34
उतरे जो ज़िन्दगी तेरी गहराइयों में।
✒ महफ़िल में रह के भी रहे तनहाइयों में

इसे दीवानगी नहीं तो और क्या कहें,
प्यार ढुढतेँ रहे परछाईयों मे.

Utare Jo Zindagi Teri Gaharayiyon Me,
Mahafil Me Rah Ke Bhi Rahe Tanhaayiyon Me,

Ise Deewanagi NAHI To Aur Kya Kahe❓
Pyaar Dhundhate Rahe Parchhayiyon Me 

📖 35
बेवफ़ाओं की ✒ महफ़िल लगेगी आज
ज़रा वक़्त पर आना…
मेहमान-ए-ख़ास हो तुम 

Bewafaao Ki Mahafil Lagegi Aaj,
Jara Waqt Par Aana,
Mehamaan-E-Khas Ho Tum 

📖 36
बस एक चेहरे ने तनहा कर दिया हमे वरना!
हम खुद में एक ✒ महफ़िल हुआ करते थे.

Bas Ek Chehare Ne Tanha Kar Diya Hame Warana,
Ham Khud Me Ek Mahafil Hua Karate The 

📖 37
मुझ तक उस ✒ महफ़िल में फिर जाम-ए-शराब आने को है
उम्र-ए-रफ़्ता पलटी आती है शबाब आने को है 
फ़ानी बदायुनी

Mujh Tak Us Mahafil Me Fir Jaam-E-Sharaab Aane Ko Hai,
Umr-E-Rafta Palati Aati Hai Shabaab Anae Ko Hain 

📖 38
सजती रहे खुशियों की ✒ महफ़िल,
हर महफ़िल ख़ुशी से सुहानी बनी रहे,

आप ज़िंदगी में इतने खुश रहें कि,
ख़ुशी भी आपकी दीवानी बनी रहे

Sajati Rahe Khushiyon Ki Mahafil
Har Mahafil Khushi Se Suhaani Bani Rahe,

Aap Zindagi Me Itane Khush Rahe Ki,
Khushi Bhi Aapki Deewani Bani Rahe 

📖 39
शरीक-ए-बज़्म होकर यूँ उचटकर बैठना तेरा,
खटकती है तेरी मौजूदगी में भी कमी अपनी

Sharik-E-Bazam Hokar Yun Uchatkar Baithana Tera
Khatakati Hai Teri Maujudagi Me Bhi Kami Apani 

📖 40
दुनिया कि ✒ महफ़िलो से उकता गया हूँ मैं,
क्या लुफ्त अंजुमन का जब दिल ही बुझ गया हो

Duniya Ki Mahfilon Se Ukata Sa Gaya Hun Mai,
Kya Luft Anjuman Ka Jab Dil Hi Bujh Gaya Ho 


📖 41
इनमे लहू जला हो हमारा कि जान ओ दिल,
✒ महफ़िल के कुछ चिराग फ़रोज़ां हुए हैं

Iname Kahu Jala HO Hamara Ki Jaan-O-Dil
Mahafil Ke Kuchh Chiraag Faroza Huye Hai 

📖 42
बहुत दिनों बाद तेरी ✒ महफ़िल में कदम रखा है,
मगर, नजरो से सलामी देने का तेरा अंदाज़ नही बदला

Bahut Dino Baad Teri Mahafil Me Kadam Rakha Hain
Magar Nazaro Se Salami Dene Ka Tera Andaaz Nahi Badala 

📖 43
तुम्हारी ✒ बज़्म से निकले तो हम ने ये सोचा 
ज़मीं से चाँद तलक कितना फ़ासला होगा 
कफ़ील आज़र अमरोहवी

Tumhari Bazam Se Nikale To Hamne Ye Socha
Zamin Se Chand Talak Kitana Fasala Hoga 

📖 44
जिंदगी एक आइना है, यहाँ पर हर कुछ छुपाना पड़ता है,
दिल में हो लाख गम फिर भी ✒ महफ़िल में मुस्कुराना पड़ता है.

Zindagi Ek Aayina Hai Yaha Par Har Kuchh Chhupaana Padata Hain,
Dil Me Ho Laakh Gam Fir Bhi Mahafil Me Muskurana Padata Hai 

📖 45
तू जरा हाथ मेरा थाम के देख तो सही,
लोग जल जायेगें ✒ महफ़िल मे, चिरागो की तरह.

Tu Jara Hath Tham Ke Dekh To Sahi
Log Jal Jayenge Mahafil Me Chiragon Ki Tarah 

📖 46
मोहब्बत की ✒ महफ़िल में आज मेरा जिक्र है,
अभी तक याद हूँ उसको खुदा का शुक्र है

Mohabbat Ki Mahafil Me Aaj MERA Zikr Hai,
Abhi Tak Yaad Hun Usako Khuda Ka Shukr Hai 

📖 47
कमाल करते हैं हमसे जलन रखने वाले,
✒ महफ़िलें खुद की सजाते हैं और चर्चे हमारे करते हैं

Kamaal Karate Hai Hamase Jalan Rakhane Wale
Mahafil Khud Ki Sajaate Hain Aur Charche Hamaare Karate Hai 

📖 48
दुश्मन को कैसे खराब कह दूं ,
 जो हर ✒ महफ़िल में मेरा नाम लेते है.

Dushaman Ko Kaise Kharaab Kah Dun,
Jo Har Mahafil Me Mera Naam Lete Hain 

📖 49
जिक्र उस का ही सही ✒ बज़्म में बैठे हो फ़राज़,
दर्द कैसा भी उठे हाथ न दिल पर रखना

Zikr Us Ka Hi Sahi Bazam Me Baithe Ho "Faraaz"
Dard Kaisa Bhi Uthe Hath Na Dil Par Rakhana 

📖 50
तेरी ✒ महफ़िल और  मेरी आँखें
दोनों भरी-भरी हैं

Teri Mahafil Aur Meri Ankhe
Dono Bhari-Bhari Hai 

📖 51
सहारे ढुंढ़ने की आदत नही हमारी,
हम अकेले पूरी ✒ महफ़िल के बराबर है

Sahaare Dhundhane Ki Aadat Nahi Hamaari,
Ham Akele Puri Mahafil Ke Baraabar Hai 

📖 52
✒ महफ़िलों में फिरता रहता हूँ अजनबी सा,
तन्हाइयों में भी तन्हाईयाँ नसीब नहीं होती.

Mahafilon Me Firata Rahata Hun Ajanabi Sa,
Tanhaayiyon Me Bhi Tanhaayiyan Nashib Nahi Hoti 

📖 53
कोई बेसबब, कोई बेताब, कोई चुप, कोई हैरान है,
 ऐ जिंदगी, तेरी ✒ महफ़िल के तमाशे ख़त्म नहीं होते.

Koi Bebas, Koi Betaab, Koi Chup, Koi Hairaan Hai,
E Zindagi, Teri Mahafil Ke Tamaashe Khatm Nahi Hote 

Mahafil Status

📖 54
इतनी चाहत से न देखा कीजिए ✒ महफ़िल में आप
शहर वालों से हमारी दुश्मनी बढ़ जाएगी.

Itani Chaahat Se Na Dekha Kijie Mahafil me aap
Shahar Vaalo Se Hamaari Dushamani Bad Jaaygi 

📖 55
पीते थे शराब हम
उसने छुड़ाई अपनी कसम देकर

✒ महफ़िल में गए थे हम
यारों ने पिलाई उसकी कसम देकर

Peete The Sharab Ham
Usane Chhudayi Apani Kasam De Kar

Mahafil Me Gaye The Ham
Yaaro Ne Peelayi Usaki Kasam Dekar 

📖 56
✒ महफ़िल में गले मिल के वो धीरे से कह गए,
ये दुनिया की रस्म है
इसे मोहब्बत ना समझ लेना.

Mahafil Me Gale Mil Ke, Wo Dheere Se Kah Haye,
Ye Duniya Ki Rasm Hai,
Ise Mohabbat Na Samjh Lena 


दोस्तों आपने पढ़ा शानदार 55 महफ़िल पर शायरी - Mahafil ShayariStatus In Hindi के इस पोस्ट को आशा करता हूँ यह मजेदार शायरी का पोस्ट आपको पसंद आया होगा  अगर आपको पसंद आया ho तो इसे शेयर करना ना भूले. facebook और Whatsapp पर..

इन्हें भी पढ़े:-
  

No comments