Happy Mother's Day 2017 Status for Whatsapp & Facebook In Hindi - Wahh Hindi Blog

wahh hindi blog

Friday, 12 May 2017

Happy Mother's Day 2017 Status for Whatsapp & Facebook In Hindi

2017 मातृ दिवस (मदर्स डे) पर "माँ" के नाम बेटे का संदेश..


माँ का नाम ही ऐसा हैं जिसके उच्चारण मात्र से ही हमारे आस पास खुशियाँ ही खुशियाँ आ जाती हैं. माँ शब्द में ही जादू माँ को ही ईश्वर का दूसरा रूप माना जाता हैं. ममता रूपी माँ जो की अपने बच्चो पर अपना सब कुछ कुर्बान कर देती हैं बिना किसी स्वार्थ के माँ से बड़ा न कोई इस श्रृष्टि में हैं और और ना ही कोई दूसरा होगा.
Happy -other's-Day-2017-Status-for-Whatsapp-&-Facebook-In-Hindi
Happy Mother's Day 2017 Status for Whatsapp & Facebook In Hindi

भगवान ने माँ के इस रूप को इस लिए बनाया की भगवान  खुद अपनी बनायीं इस श्रृष्टि के एक-एक बच्चो की देखभाल नहीं कर सकते इस लिए माँ को बनाया माँ ही हैं जो अपने प्राणों से बढ़ कर अपने बच्चो का ख्याल रखती हैं.. फिल्म राजा और रंक  का वो गाना जिसके बोल थे "माँ बच्चो की जां होती हैं, वो होते हैं किस्मत वाले जिनके माँ होती" सच ही कहा गया हैं वो हर एक शख्स किस्मत वाला हैं जिनके साथ माँ रहती हैं . माँ का साथ होता हैं. माँ के प्यार के बिना सारा संसार अधुरा हैं. 

माँ पर तमाम लोगो ने अपने अपने विचारो को लिखा कविताये लिखी शायरी लिखी कहानिया  लिखी पर माँ शब्द ही ऐसा हैं, लिखते लिखते इन्सान खुद तो ख़त्म हो  जाता हैं..  पर माँ की ममता का सम्पूर्ण  व्याख्यान नहीं कर सकता .. वेसे  मुनव्वर राना ने अपनी कलम को माँ के नाम कर दिया और मुनव्वर राना ने बहुत सी शायरियां माँ के नाम लिखी उन शायरियों को पढ़ने के लिए Yaha क्लिक करे..

दोस्तों आज का  आर्टिकल  मातृ दिवस (Mother's Day)  पर आधारित हैं और इस बार मातृ दिवस (Mother's Day)  14 May 2017 को पड़ने वाला हैं. सबसे पहले आप सभी को इस पोस्ट के माध्यम से मदर डे की हार्दिक शुभकामनाएं... 

आज के इस आर्टिकल में  माँ की ममता और माँ के प्यार से जुडी रचनाये, विचार और साथ ही शायरियां खास आप के लिए मातृ दिवस के पर्व पर कर रहे हैं अलग अलग सोशल मिडिया से सबसे प्रचलित माँ पर बनी कविता, शायरी और विचारो का संग्रह आप सभी के लिए मातृ दिवस के अवसर पर 

तो देर कैसी पढ़ते हैं माँ से जुडी रचनाएँ और शेयर करते हैं फेसबुक और व्हात्सप्प या अन्य सोशल मिडिया के माध्यम से मातृ दिवस पर अपनी माँ के नाम प्यार भरा सन्देश

2017 मातृ दिवस (मदर्स डे) पर "माँ" के नाम बेटे का संदेश..


 यह माँ के रूप को दर्शाती रचना जगदीश व्योम जी द्वारा लिखी गयी...


 माँ कबीर की साखी जैसी
 तुलसी की चौपाई-सी
 माँ मीरा की पदावली-सी
 माँ है ललित रुबाई-सी..

 माँ वेदों की मूल चेतना
 माँ गीता की वाणी-सी
 माँ त्रिपिटिक के सिद्ध सूक्त-सी
 लोकोक्तर कल्याणी-सी..

 माँ द्वारे की तुलसी जैसी
 माँ बरगद की छाया-सी
 माँ कविता की सहज वेदना
 महाकाव्य की काया-सी..

 माँ अषाढ़ की पहली वर्षा
 सावन की पुरवाई-सी
 माँ बसन्त की सुरभि सरीखी
 बगिया की अमराई-सी..

 माँ यमुना की स्याम लहर-सी
 रेवा की गहराई-सी
 माँ गंगा की निर्मल धारा
 गोमुख की ऊँचाई-सी..

 माँ ममता का मानसरोवर
 हिमगिरि-सा विश्वास है
 माँ श्रद्धा की आदि शक्ति-सी
 कावा है कैलाश है..

 माँ धरती की हरी दूब-सी
 माँ केशर की क्यारी है
 पूरी सृष्टि निछावर जिस पर
 माँ की छवि ही न्यारी है..

 माँ धरती के धैर्य सरीखी
 माँ ममता की खान है
 माँ की उपमा केवल है
 माँ सचमुच भगवान है..


2017 Mother Day Special Poem in Hindi, 


 मातृ दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं..


 घुटनों से रेंगते रेंगते
 कब पैरों पर खड़ा हुआ,
 तेरी ममता की छाओं में
 जाने कब बड़ा हुआ..

 काला टीका दूध मलाई
 आज भी सब कुछ वैसा है,
 मैं ही मैं हूँ हर जगह
 प्यार यह तेरा कैसा है?

 सीधा साधा भोला भाला
 मैं ही सबसे अच्छा हूँ,
 कितना भी हो जाऊं बड़ा
 माँ, मैं आज भी तेरा बच्चा हूँ..

2017 मातृ दिवस (मदर्स डे) पर "माँ" के नाम बेटे का संदेश..


 यह माँ के ऊपर यह  रचना दीपाली पाटील द्वारा लिखी गयी...


 भोर के सूरज की उजास लिए 
 जीवनभर रोशनी-सी बिखेरती है मां.

 दुःख के कंकर बीनती रहती 
 सुख थाली में परोसती है मां.

 स्नेह की बौछारों से सींचकर 
 सहेजती है जीवन का अंकुर.

 मंत्र-श्लोक की शक्ति 
आंचल में समेटती है मां.

अपनी आंख के तारों के लिए 
स्वप्न बुनती जागती उसकी आंखें
स्वयं के लिए कोई प्राथना नहीं करती मां..

 निष्काम भक्ति है या कोई तपस्या
 बस घर की धूरी पर अनवरत घुमती है मां.

 उसकी चूडियों की खनखनाहट में
 गूंजता जीवन का अद्भुत संगीत
 उसकी लोरी में है गुंथे 
 वेद ऋचाओं के गीत.

 आंगन में उसके विश्व समाया
 अमृत से भी मधुर होता है
 मां के हाथ का हर निवाला

 जीवन अर्पण कर देती है बिना मूल्य के
 सांझ दीये-सी जलती रहती है मां.
 उसके ऋणों से कैसी मुक्ति.

 खुली किताब पर अनजानी-सी
 शब्दों में कहां समाती है मां....

 Mother Day Special Poem in Hindi, 


सुबह सुबह मैने सारी रात रोई हुई आंखों को छुपाया था.
पर मेरी मां को मेरी लाल आंखों ने सब समझाया था.

मां ने प्यार से बैठा के सीने से लगाया था.
मै हूं ना” ये कह से फिर एक बार रूलाया था.

लिपट गया था सीने से मां के मैं फिर
बडे प्यार से माँ ने सर मे हाथ धुमाया था.

अब तो मां को छोड कर हर शख्स लगता मुझे पराया था..
गमो के भयानक सायों से मां की दुवाओं ने ही तो मुझको बचाया था..

 दिल का दर्द कुछ कहे बिना जान लेती है..

 मेरी खुशी के लिए वो  हर बात मान लेती है...

 याद है मुझको जब उस बेवफा के प्यार में मैने धोखा खाया था..
 “वो भी किसी की बेटी है, उसकी भी कुछ मजबूरियां है” ये कह के मेरी    मां ने मुझे समझाया था..



 Happy Mother's Day Status for Whatsapp & Facebook In Hindi 


 हर दर्द को सह कर खुश रहती है, बच्चों के लिए जो हर सितम सहती है...
 घर में तंगी की वजह से बच्चों को खाना खिला कर “मुझे भूख नही है” ये  कह कर खुद भूखी रहती है... येसी होती हैं "माँ"


 Happy Mother's Day 2017 Status for Whatsapp & Facebook In Hindi


  जो कुछ देकर कुछ पाने की चाह ना रखे..
 बच्चों के लिए दुनिया कि दिल में परवाह ना रखे... 
 उसे खुदा की पाक पवि़त्र चाह कहतें है..
 जो मर कर भी जिन्दगी दे मेरे दोस्त उस पाक सूरत को “माँ” कहते है..


 Hindi Status and Quotes on Mothers Day.. 


 माँ ,क्या तुमको मैं आज दूं,
 तुमसे निर्मित ही तो मैं हूँ..

 कुछ दिया नहीं बस पाया है.
 आज भी कुछ मांगती हूँ..

 जाने -अनजाने अपराधों की.
 बस क्षमा मांगती हूँ तुमसे ..
 बस क्षमा मांगती हूँ तुमसे ..


 अ 2017 मातृ दिवस की ढेरों बधाईया..


 भारी बोझ पहाड़ सा कुछ हल्का हो जाए
 जब मेरी चिंता बढ़े माँ सपने में आए
                                                अख़्तर नज़्मी

 Happy Mother's Day 2017,

 एक मुद्दत से मिरी माँ नहीं सोई 'ताबिश'
 मैं ने इक बार कहा था मुझे डर लगता है
 अब्बास ताबिश



 हैप्पी मदर्स डे 2017,


 मैं रोया परदेस में भीगा माँ का प्यार
 दुख ने दुख से बात की बिन चिट्ठी बिन तार
 निदा फ़ाज़ली


 Happy Mother's Day 2017 


 माँ तेरे दूध का कर्ज मुजसे कभी अदा नहीं होंगा. 
 अगर कभी रही तू नाराज तो खुश वो खुदा मुझसे क्या होंगा.



 Happy Mother's Day 2017 


 माँ के कंधे पर जब सर रखा मैंने तो पुँछा माँ से, 
 कब तक युही अपने कंधे पर सोने देंगी.. 
 माँ ने कहा बेटा तब-तक की 
 जब तक लोग मुझें अपने कंधे पर उठा नहीं लेंगे...




 हैप्पी मदर्स डे 2017,


 मैं रात भर जन्नत की सैर करता रहा दोस्तों, 
 सुबह जब नींद खुलीं तो सर माँ के पैरो पे था


 हैप्पी मदर्स डे 2017,


 उनकों कभी देखा नहीं हमनें और इसकी जरुरत भी क्या होगी, 
 ये माँ तेरी सूरत से अलग उस भगवान की मूरत ही क्या होगी ? 


 हैप्पी मदर्स डे 2017,


 जो मांगू वो दे दिया कर, ऐ ज़िन्दगी
 तू बस मेरी माँ की तरह बन जा.. 

ममतारूपी माँ पर अन्य शायरी रचनाएँ और विचारो के लिए नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक करे 

No comments:

Post a Comment