Monday, 27 March 2017

Happy Chaitra Navratri 2017 / Mata Rani Ko Manaye 11 Siddh Mantron Se,

11 आमोद्य दिव्य सिद्ध मंत्रो से  करे माता रानी को प्रसन्न.

हिन्दू धर्म में चैत्र नवरात्र का बहुत ही बड़ा महत्व होता हैं. जैसा की हम आप जानते है  की नवरात्रि संस्कृत शब्द है, जिसे  'नौ रातें' के नाम से जानते हैं. हिन्दू धर्म को मानने वाले इन नौ राते और दस दिन तक  माता रानी की आराधना करते हैं. माँ शक्ति के तीन रूप "महालक्ष्मी, महासरस्वती माँ महाकाली"  के रूप में विराजमान है और माँ के  नौ अलग अलग रूपों की आराधना पूजा करते हैं.  नवरात्र को माँ का आह्वान किया जाता हैं. ताकि हम उन संकटों से दुःख पीड़ा, प्राकृतिक आपदाओं और दुश्मनों, से बच सके, और माँ हमारे सारे संकट को  हर ले, और हमें  सुख सम्पत्ति ज्ञान स्वास्थ का वरदान मिले..

Happy-Chaitra-Navratri-2017

आज इस आर्टिकल में नवरात्री में आप को माता रानी  को प्रसन्न करने और माता  की आराधना करने के लिए माँ के उन मंत्रो को बताएँगे जिसके उच्चारण मात्र से ही, आप के सारे  दुःख दर्द कलेश मिट जायेंगे. और आप की खाली झोली में माँ के आशीर्वाद के रूप में सुख सम्पत्ति ज्ञान शक्ति की प्राप्ति होगी..

तो आईये जानते हैं सर्वप्रथम माँ के कौन कौन से रूपों की नवरात्री में आराधना हम करते हैं, और साथ ही जानते हैं माता के नौ रूपों के नामो को..

"जाने माता रानी के नौ रूप?"


  • शैलपुत्री - इसका अर्थ- पहाड़ों की पुत्री होता है।
  • ब्रह्मचारिणी - इसका अर्थ- ब्रह्मचारीणी।
  • चंद्रघंटा - इसका अर्थ- चाँद की तरह चमकने वाली।
  • कूष्माण्डा - इसका अर्थ- पूरा जगत उनके पैर में है।
  • स्कंदमाता - इसका अर्थ- कार्तिक स्वामी की माता।
  • कात्यायनी - इसका अर्थ- कात्यायन आश्रम में जन्मि।
  • कालरात्रि - इसका अर्थ- काल का नाश करने वली।
  • महागौरी - इसका अर्थ- सफेद रंग वाली मां।
  • सिद्धिदात्री - इसका अर्थ- सर्व सिद्धि देने वाली।
माता रानी के नौ रूपों के नाम को आप ने जाना  अब माँ को प्रसन्न करने हेतु मंत्रो को पढ़ते हैं और उनका स्वक्ष ह्रदय से मंत्रो का जाप  और उच्चारण करते हैं हैं... 

Happy Chaitra Navratri 2017 

1
सर्व-कल्याण हेतु मन्त्र.... 


“सर्वमङ्गलमङ्गल्ये शिवे सर्वार्थसाधिके। 
शरण्ये त्र्यम्बके गौरि नारायणि नमोऽस्तु ते॥” 

2017 Chaitra Navratri Me Mata Rani Ko Manaye 11 Siddh Mantron Se,

2
अचानक आये हुए संकट को दूर करने हेतु


“ॐ इत्थं यदा यदा बाधा दानवोत्था भविष्यति।
तदा तदावतीर्याहं करिष्याम्यरिसंक्षयम्ॐ।।” 



11 आमोद्य दिव्य सिद्ध मंत्रो से  करे माता रानी को प्रसन्न


3
अपनी दुश्मनों से रक्षा पाने के लिये


शूलेन पाहि नो देवि पाहि खड्गेन चाम्बिके। 
घण्टास्वनेन न: पाहि चापज्यानि:स्वनेन च॥



शुभकामनाएं चैत्र नवरात्री 2017

4
बलशाली बनने एवं शक्ति  को प्राप्त करने के लिये मन्त्र ...


सृष्टिस्थितिविनाशानां शक्ति भूते सनातनि। 
गुणाश्रये गुणमये नारायणि नमोऽस्तु ते॥




5
ख़ुशी एवं प्रसन्नता  को प्राप्त करने के लिये मन्त्र....


प्रणतानां प्रसीद त्वं देवि विश्वार्तिहारिणि। 
त्रैलोक्यवासिनामीडये लोकानां वरदा भव॥


Happy Chaitra Navratri 2017 

6
समस्त बाधाओं से मुक्ति पाने के लिए मन्त्र ..


सर्वाबाधाप्रशमनं त्रैलोक्यस्याखिलेश्वरि। 
एवमेव त्वया कार्यमस्मद्वैरिविनाशनम्॥” 

.
7
पीड़ा और विपत्ति के नाश के लिए मन्त्र..


“शरणागतदीनार्तपरित्राणपरायणे। 
सर्वस्यार्तिहरे देवि नारायणि नमोऽस्तु ते॥” 




2017 चैत्र नवरात्री की शुभकामनाएं

8
पाप का सर्वनाश करने के लिए मन्त्र 


हिनस्ति दैत्यतेजांसि स्वनेनापूर्य या जगत्। 
सा घण्टा पातु नो देवि पापेभ्योऽन: सुतानिव॥



Mata Rani Ko Manaye 11 Siddh Mantron Se,

9
अपने भय को दूर करने के लिए मन्त्र....

“सर्वस्वरूपे सर्वेशे सर्वशक्ति समन्विते। 
भयेभ्याहि नो देवि दुर्गे देवि नमोऽस्तु ते॥

एतत्ते वदनं सौम्यं लोचनत्रयभूषितम्। 
पातु न: सर्वभीतिभ्य: कात्यायनि नमोऽस्तु ते॥

ज्वालाकरालमत्युग्रमशेषासुरसूदनम्। 
त्रिशूलं पातु नो भीतेर्भद्रकालि नमोऽस्तु ते॥ ” 


.
10
सामूहिक कल्याण के लिये लिए मन्त्र... 


देव्या यया ततमिदं जगदात्मशक्त्या 
निश्शेषदेवगणशक्ति समूहमूत्र्या।
तामम्बिकामखिलदेवमहर्षिपूज्यां 
भक्त्या नता: स्म विदधातु शुभानि सा न:॥


11
संतान प्राप्ति के लिए मन्त्र...


“नन्दगोपगृहे जाता यशोदागर्भ सम्भवा।
ततस्तौ नाशयिष्यामि विन्ध्याचलनिवासिनी” 


.


Previous Post
Next Post

About Author

0 comments: