41+ ज़ालिम शायरी 2 लाइन - ज़ालिम Status


बेहतरीन 41+ ज़ालिम शायरी 2 लाइन - ज़ालिम Status


दोस्तों हिंदी उर्दू शायरी के इस Post की Topic हैं "ज़ालिम Shayari". इसमें आप पढ़ सकते हैं  ज़ालिम शायरी 2 लाइन, ज़ालिम शायरी in Urdu, ज़ालिम Status, ज़ालिम शायरी Hindi,  ज़ालिम शायरी 4 लाइन, पर बनी बेजोड़ शानदार शायरी को, मित्रो आशा करता हूँ कि यह पोस्ट आप सभी शायरी के चाहने वालो को बेहद पसंद आएगी


Zalim-Shayari-2-Line
Zalim Shayari 2 Line

आईये पढ़ते हैं "ज़ालिम शायरी" के इस लाज़वाब पोस्ट को और शेयर करते हैं अपने पसंद की शायरी को फेसबुक और व्हाट्सप्प पर अपने दोस्तों को 

हम तुम से जुदा हो के, मर जायेंगे रो रो के, दुनिया बड़ी जालिम है, दिल तोड़ के हँसती है एक मौज किनारे से मिलने को तरसती है...


1
सुनो 👉 जालिंम बहुत भाता है मुझे ये सबेरा, 
बस सुबह का सूरज बन कर तुम मेरे साथ रहो..

2
ये 👉 ज़ालिम मोहब्बत नूर को भी बेनूर कर देती है,
जिसके करीब रहना चाहो उससे ही दूर कर देती है..

3
नफरत है मुझे आज 👉 जालिम तेरे उस रुखसार से,
जिसे देख कर मैं अक्सर दीवाना हुआ करता था..

4
तू वो 👉 ज़ालिम है जो दिल में रह कर भी मेरा न बन सका,
और दिल वो काफिर जो मुझमे रह कर भी तेरा हो गया..

   ज़ालिम Shayari   

5
राज दिल में छुपाये रहते हैं,
अपने आँखों से  छलकने नहीं देते.

क्या 👉 ज़ालिम अदा है उस हसीं की,
ज़ख्म भी देते हैं और तड़पने नहीं देते..

Raaz Dil Me Chhupaye Rahate Hain,
Apane Ankhon Se Chhalakane Nahi Dete.

Kya Zalim Aada Hai Us Haseen Ki,
Zakhm Bhi Dete Hain Aur Tadapane Nahi Dete..

6
जालिम तेरी अदा हैं आँखे तेरी कटारी,
मुस्कान तेरी 👉 कातिल कैसे बचे बिहारी..



____________________________________

न्हे भी पढ़े:-


7
तेरा हुस्न वो 👉 कातिल है ज़ालिम,
जो क़त्ल तो करता है और, 
हाथ में तलवार भी नही रखता..

8
मसला ये भी है इस 👉 ज़ालिम दुनिया का,
कोई अगर अच्छा भी है तो क्यूँ है ?

   ज़ालिम शायरी 4 लाइन   

9
राज दिल में छुपाये रहते हैं,
अपने आँखों से  छलकने नहीं देते,

क्या 👉 ज़ालिम अदा है उस हसीं की,
ज़ख्म भी देते हैं और तड़पने नहीं देते..

Raaz Dil Me Chhupaye Rahate Hain,
Apane Ankhon Se Chhalakane Nahi Dete,

Kya Zalim Aada Hai Us Haseen Ki,
Zakhm Bhi Dete Hain Aur Tadapane Nahi Dete..

10
दिन से माह माह से साल गुजर गई है,
अब तो आजा 👉 जालिम आखें तरस गई है..

Din Se Maah, Maah Se SaalGuzar Gayi Hai 
Ab To Aa Ja Zalim Ankhen Tars Gayi Hai..

11
बहुत 👉 ज़ालिम निगाहें हैं इन्हें मासूम मत समझो,
अगर तफ़्तीश हो जाये हज़ारों क़त्ल निकलेंगे..

12
अधरों से लगा ले 👉 ज़ालिम बाँसुरी हो ज़ाऊंगी,
इश्क़ है.तुमसे जालिंम सारे ज़हान को सुनाऊंगी..

13
कोई और कर्ज होता तो उतार देता, 
ये 👉 जालिम इश्क़ का कर्ज उतारा नही जाता..

14
उधर 👉 ज़ालिम ने ज़ुल्फे झटक दी,
यहां दीवाना जान से गया..

15
बहुत 👉 जालिम हो तुम भी मुहब्बत ऐसे करते, 
हो जैसे घर के पिंजरे में परिंदा पाल रखा हो..

16
तुम जानती हो की मैं बहुत 👉 जालिम हूँ, 
फिर इतना मोहब्बत क्यों करती हो मुझसे.

तुम कहती हो मोहब्बत बहुत, असर रखती है, 
और उसी से मैं बदल डालुंगी तुम्हें..

   ज़ालिम शायरी Hindi   

17
इतने 👉 जालिम न बनो कुछ तो कदर करो,
तुम पर मरते हैं तो क्या मार ही डालोगे..

18
अब जो कहती हो कि 👉 जालिम से बने बैठे हो,
तुम जरा याद करो मौहब्बत भी रहा हूँ में..

19
दुनिया बड़ी 👉 जालिम है 
हर बात छिपानी पड़ती है,

दिल में दर्द होता है फिर भी 
होंठो पर हंसी लानी पड़ती है..

20
बड़े 👉 जालिम थे मेरे सनम,
मोहब्बत की लत लगा कर 
मुझे तनहा कर गया..


21
ज़ालिम ने दिल उस वक़्त तोडा,
जब हम उसके गुलाम हो गए..

22
कितनी जालिम 👈 हैं
ये फरवरी,

दिल जोडती भी है
दिल तोडती भी है..

   ज़ालिम Shayari   

23
कितनी तारीफ करूं 
उस जालिम 👈 के हुस्न की,
पूरी किताब तो बस उसके, 
होठों पर ही खत्म हो जाती है..


____________________________________
न्हे भी पढ़े:-
____________________________________

24
पलट कर देख ये 👉 ज़ालिम
तमन्ना हम भी रखते है,

तुम अगर हुस्न रखती हो तो 
जवानी हम भी रखते है.. 

25
मैं कहता था ना कि वक्त 👉 जालिम होता है ,
देख लो हकीकत से ख्वाब हो गए तुम भी..

Mai Kahata Tha Naa Ki Waqt Zalim Hota Hai,
Dekh Lo Haqikat Se Khwab Ho Gaye Tum Bhi..

26
सुन चुके जब हाल मेरा,
ले के अंगड़ाई कहा.

किस ग़ज़ब का दर्द 
ज़ालिम 👈 तेरे अफ़्साने में था?

   ज़ालिम शायरी in Urdu  

27
क़ातिल हैं ज़ालिम 👈 की नीची निगाहें,
ख़ुदा जाने क्या हों, जो नज़रें उठाले..

28
हज़ारों चाहने वाले हैं दीवाना नहीं मिलता
जो हम पर जान भी वारे वो परवाना नहीं मिलता,

अजी हम तो बड़े ही शौक़ से बरबाद हो जाएं
मुहब्बत का मगर ज़ालिम 👈 ये नज़राना नहीं मिलता..

29
ज़ालिम 👈 तो ये ठण्ड भी हैं सनम
मजबूर कर देती हैं मुझे हर बार
तेरी बाँहों में समां जाने के लिए..

   ज़ालिम शायरी 4 लाइन   

30
बडे गुस्ताख हैं, 
झुक कर तेरा चेहरा चूम लेते हैं,

तुमने भी जानम, 
जालिम 👈 ज़ुल्फ़ों को सर चढा रखा है..

Zalim Julfon Ko

Bade Gustakh Hain, 
Jhuk Kar Tera Chaihara Chum Lete  Hain,

Tumane Bhi Janam, 
Zalim Julfon Ko Sar Chadha Rakkha  Hain..

31
इश्क़ सभी को जीना सिखा देता है, 
वफ़ा के नाम पर मरना सीखा देता है, 

इश्क़ नहीं किया तो करके देखो, 
ज़ालिम 👈 हर दर्द सहना सीखा देता है..

32
इश्क सभी को जीना सिखा देता है,
वफा के नाम पे मरना सिखा देता है,

इश्क नहीं किया तो करके देखो,
जालिम 👈 हर दर्द को पीना सिखा देता हैं..

33
ये उदास शाम और तेरी ज़ालिम 👈 याद,
खुदा खैर करे अभी तो रात बाकि है..

Ye Udas Sham Aur Teri Zalim Yaad,
Khuda Khair Kare Abhi To Raat Baki Hai..

34
वो सुर्ख होंठ और उन पर 
जालिम 👈 अंगडाईयां, 

तू ही बता ये दिल मरता ना तो 
क्या करता?

Wo Surkh Hoth Aur Un Par 
Zalim Angdayi,

Tu Hi Bata Ye Dil Marata Naa To 
Kya Karata?


35
ये जालिम 👈 हिचकियाँ थमती क्यूँ नहीं आखिर,
किसके जहन में आकर यू थम सा गया हूँ मैं..

Ye Zalim Hichakiyan Thamati Kyun Nahi Aakhir,
Kisake Jahan Me Aakar Yu Tham Sa Gaya Hun Mai..

36
ये उदास शाम और तेरी ज़ालिम 👈 याद,
खुदा खैर करे अभी तो रात बाकि है..

Ye Udas Sham Aur Teri Zalim Yaad,
Khuda Khair Kare Abhi To Raat Baki Hai..

37
बड़ा 👉 जालिम जमाना है यहां हर शख्स सयाना है,
यह मैं नहीं कहता ये भी कहता  जमाना है..


____________________________________

38
बदला हुआ वक़्त है, ज़ालिम 👈 ज़माना है,
यहां मतलबी रिश्ते है, फिर भी निभाना है..

Badala Hua Waqt Hai, Zalim Zamaana Hai,
Yaha Matalabi Rishte Hai, Fir Bhi Nibhana Hai..

39
इस कदर कातिल नजरों से
 देखा उस जालिम 👈 ने,

दिल तो गया ही साथ मे 
15 रुपये का समोसा भी गिर  गया..

40
बर्बाद ना कर 👉 ज़ालिम 
ठोकर से मजारों को,

इस शहर-ए-खामोशा को 
मर-मर के बसाया है..

Barbaad Naa Kar Zalim 
Thokar Se Mazaaro Ko,

Is Shahar-E-Khamosh Ko 
Mar-Mar Ke Basaya Hai..

   ज़ालिम शायरी in Urdu  

41
जालिम 👈 जख्म पर 
जख्म दिए जा रहा है,

शायद जान गया है, 
उसकी हर अदा पे मरते हैं हम..

Zalim Zakhm Par 
Zakhm Diye Ja Raha Hain,

 Shayad Jaan Gya Hain,
 Usaki Har Aada Pe Marata Hu..

   ज़ालिम शायरी Hindi   

42
ये उदास शाम और तेरी ज़ालिम 👈 याद
खुदा खैर करे अभी तो रात बाकि है..


=
दोस्तों आशा करता हूँ की "  115+ आरज़ू शायरी 2 लाइन - आरज़ू Status  " की पोस्ट आपको पसंद आयी होगी। आपने पढ़ा होगा आरज़ू शायरी in Urduआरज़ू  Status Hindiआरज़ू शायरी 4 लाइन, पर बनी बेजोड़ शानदार शायरी को, यह पोस्ट पसंद आयी हो तो अपने दोस्तों में शेयर कीजियेगा.






No comments