70+ रूह शायरी 2 लाइन - Rooh Status, Ruh Shayari


दोस्तों फेसबुक शायरी के इस Post की Topic  "Rooh Shayari"  हैं. इसमें आप पढ़ सकते हैं रूह शायरी 2 लाइन, रूह शायरी in Urdu, Rooh Status, रूह शायरी 4 लाइन, पर बनी बेजोड़ शानदार रूह शायरी को, मित्रो आशा करता हूँ कि यह पोस्ट आप सभी शायरी के चाहने वालो को बेहद पसंद आएगी. Ruh Shayari..

Rooh-Shayari
Rooh Status, Ruh Shayari 

दोस्तों आईये अब पढ़ते हैं "रूह, रूहानी शब्द पर बने एक से बढ़ कर एक शायरियों के इस कलेक्शन को जो शेर-ओ-शायरी के चाहने वालो को बेहद ही पसंद आएगा यह कलेक्शन अलग अलग सोशल मिडिया के प्लेटफार्म से संग्रह कर के बनाया गया खास आप सभी के लिए तो आईये लुफ्त उठाये इस पोस्ट का और शेयर करे अपने पसंद के शेर को अपने दोस्तों को.

70+ रूह शायरी 2 लाइन -  Rooh Status - Ruh Shayari 




1
प्यार दो जिस्म का नहीं  रूहों का मिलन हैं

2
मेरी रूह में समायी है तेरी खुशबू
लोग कहते हैं तेरा इत्र लाजवाब है

3
बदन से रूह जाती है तो बिछती है सफ-ए-मातम
 मगर किरदार मर जाये तो क्यूँ मातम नहीं होता?

Badan Se Ruh Jate Hai To Bichti Hai Saf-Ae-Matam,
Magar Kirdar Mar Jaye To Kyu Matam Nahi Hota..

4
ताल्लुक हो तो रूह से रूह का हो
दिल तो अकसर एक दूसरे से भर जाया करते हैं 

Talluk Ho To Ruh Se Ruh Ka Ho,
Dil To Aksar Ek Dusare Se Bhar Jaya Karata Hain..

5
रूह के रिश्तों की यही खूबी है
महसूस हो ही जाती है कुछ बातें अनकही

6
 रूह घबराई हुई फिरती है मेरी लाश पर
 क्या जनाज़े पर मेरे  ख़त का जवाब आने को है
 फ़ानी बदायुनी

  रूह शायरी उर्दू   

7
तेरे चेहरे के हजारों चाहने वाले होगें
तेरी रूह का तो मैं बस अकेला ही दीवाना हूं

Tere Chehare Ke Hazaaro Chahane Wale Honge,
Teri Ruh Ka To Bas Akela Hi Deewana Hun.

  Ruh Shayari  

8
ख़ुशबू-सी बेटियाँ जब गले लगती हैं
तो रूह तक महक उठती हैं

Khushabu Si Betiyan Jab Gale Lagati Haim
To Ruh Tak Mahak Uthati Hai.

9
रूह की तडप का इलाज हो तुम 
और जिंदगी हमसे पूछो 
सनम कितनी लाजवाब हो तुम
Ruh Ki Tadap Ka Ilaaz Ho Tum 
Aur Zindagi Hamase Punchho
Sanam Kitani Jaazawaab Ho Tum
10
तेरे हर गम को अपनी रूह में उतार लूँ
ज़िन्दगी अपनी तेरी चाहत में संवार लूँ

11
ना चाहतों का ना ही  ये दौलतों का रिश्ता है
ये तेरा मेरा तो बस रूह का रिश्ता है

Naa Chahaton Ka Naa Hi Daulaton Ka Rishata Hai
Ye Tera Mera To Bas Ruh Ka Rishta Hain

   रूह शायरी   

12
इश्क़ हूँ मुकमल हूँ मुझ में समा तो सही
रूह की प्यास हूँ ताउम्र की आस हूँ, 
 सीने से लगा तो सही

Ishq Hun Mukamal Hun Mujh Me Sama To Sahi
Ruh Ki Pyaas Hun Taumra Ki Aas Hun 
Seene Se Laga ToSahi

13
प्यास इतनी है मेरी रूह की गहराई में
अश्क गिरता है तो दामन को जला देता है

Pyaas Itani Hai Meri Ruh Ki Gaharayi Me
Ashq Girata Hai To Daaman Ko Jala Deta Hai

14
एक एहसास तेरा,मुकम्मल जिंदगी मेरी
एक खुशी तेरी,सौ दुआ-ए-रूह मेरी

15
करू क्यों फ़िक्र की, मौत के बाद जगह कहाँ मिलेगी
जहाँ होगी महफिल, मेरे यारो की मेरी रूह वहाँ मिलेगी

16
वजूद की तलब ना कर
हक है तेरा रूह तक सफर तो कर

17
अल्हड़ सी ओस की बूँदे बबो को मेरे भिगो गई
तुम आओ तो मेरे रूह की प्यास बुझे

18
बेनाम आरजू की वजह ना पूछिए
कोई अजनबी था रूह का दर्द बन गया

19
मौत की शह दे कर तुमने  समझा अब तो मात हुई
मैंने जिस्म का ख़ोल उतार क़े सौंप दिया,और रूह बचा ली
गुलज़ार 

20
रूहानी इश्क़ होता है जब, 
जिस्म की प्यास नहीं होती

हवा का रंग नहीं होता, 
इश्क़ की जात नहीं होती

Ruhani Ishq Hota Hai Hai 
Jab Zism Ki Pyaas Nahi Hoti,

Hawa Ka Rang Nahi Hota 
Ishq Ki Jaat Nahi Hoti.

21
कुछ इस तरह से बसे हो तुम मेरे अहसासों में
जैसे धड़कन दिल में, मछली पानी में, रूह जिस्म में

22
आज जिस्म मे जान है, 
तो देखते नही हैं लोग

जब रूह निकल जाएगी तो, 
कफन हटा-हटा कर देखेंगे लोग

23
जिस्म की दरारों से रूह नज़र आने लगी है
बहुत अंदर तक तोड़ गया है इश्क़ तुम्हारा

24
जिस्म तो बहुत संवार चुके
रूह का सिंगार कीजिये

फूल शाख से न तोडिये 
खुशबुओं से प्यार कीजिये

25
जिस्म से होने वाली मोहब्बत का 
इजहार आसान होता है

रूह से हुई मोहब्बत समझने में 
जिन्दगी गुजर जाती है

Zism Se Hone Wali Mohabbat Ka 
Izahaar Aasaan Hota Hai,

Rooh Se Huye Mohabbat Samajhane Mein 
Zindagi Gujar Jati Hai.

26
जो मेरे दिल में है तेरे दिल,
में भी वही आरज़ू चाहिए

मोहब्बत में मुझे सिर्फ,
जिस्म नहीं तेरी रूह चाहिए

   Rooh Shayari 2 Line   

27
रूह की आड़ में जिस्म तक नोच खाते हैं लोग
प्यार के नाम पर हवस की आग बुझाते हैं लोग

28
जब यार मेरा हो पास मेरे, 
मैं क्यूँ न हद से गुजर जाऊँ

जिस्म बना लूँ उसे मैं अपना, 
या रूह मैं उसकी बन जाऊँ

29
तमन्ना तेरे जिस्म की होती तो 
छीन लेते दुनिया से

इश्क तेरी रूह से है 
इसलिए खुदा से मांगते हैं तुझे

  Ruh Shayari  

30
जिस्म संदल सांस खुशबू आंख बादल हो गयी
आपसे घुलकर हमारी रूह पागल हो गयी

एक कंकड़ प्यार से फेंका ये किसने झील में
आज फिर ढहरे हुए दरिया में हलचल हो गयी
31
मेरी रूह का मिलन तेरी रूह से हो जाए 
कुछ इस तरह मेरे लब आज तेरे लबों को छू जाए

मिटाकर हर फासला हम दोनों के दरमियां 
क्यों ना आज तुम हमारे और हम तुम्हारे हो जाएं

32
दिल से खेलने की फितरत 
खुदा ने भी क्या खूब रखी

इश्क़ को रूह तक रखा 
मोहब्बत को आँखें नहीं बख्शी

33
जब रूह में उतर जाता हैं बेपनाह इश्क का समंदर
लोग जिंदा तो होते हैं मगर किसी और के अंदर

34
हुस्न की मल्लिका हो या साँवली सी सूरत
इश्क अगर रूह से हो तो हर चेहरा कमाल लगता है

35
यूँ तो होते है रूबरू चेहरे बहोत हर रोज़ मुझसे
लेकिन रुह को सुकून जिससे मिले वो चेहरा तुम्हारा है


70+ रूह शायरी 2 लाइन -  Rooh Status


36
रूह का सकून है इश्क
शर्त है.. सही इंसान से हो

37
रूह मेरी इश्क़ तेरा जान मेरी जिस्म तेरा 
जन्नत मिले पहलू में तेरे बाहे तेरी और सुकून मेरा

38
इश्क अगर रूह से हो तो
हर चेहरा कमाल लगता है 

39
उसने मुझसे पूछा मोहब्बत कश्मकश क्या है?
मेने कहा बाहों में समंदर और रूह प्यासी

40
इश्क़ जिस्म से नही 
रूह से किया जाता है

जिस्म तो एक लिबास है, 
ये हर जनम बदल जाता है

41
रूह जिस्म का ठौर ठिकाना चलता रहता है
जीना मरना खोना पाना चलता रहता है

42
हम अपनी रूह तेरे जिस्म में छोड़ आए,  "फ़राज़"
तुझे गले से लगाना तो एक बहाना था

Hum Apni Ruh Tere Zism Mein Chhod Aaye,
Tujhe Gale Se Lagana To Ek Bahaana  Tha.

43
ख़ुद मिरी आँखों से ओझल मेरी हस्ती हो गई.
आईना तो साफ़ है तस्वीर धुँदली हो गई

साँस लेता हूँ तो चुभती हैं बदन में हड्डियाँ. 
रूह भी शायद मिरी अब मुझ से बाग़ी हो गई

   Rooh Shayari 2 Line   

44
ज़हर भी है एक दवा भी है इश्क़,
तुझसे और तुझ तक मेरी रज़ा है इश्क़

जिस्म छू कर तो हर कोई एहसास पा जाए,
रूह तक महसूस हो  वो नशा है इश्क़

45
मिरे महबूब इतराते फिरते थे जवानी पे अपनी
मिरे बिना अपना वजूद जो देखा तो, रूह कांप गई

46
मुझे तलाश है एक रूह की जो मुझे दिल से प्यार करे
वरना जिस्म तो पैसो से भी मिल जाया करते है

47
इश्क वो खेल नहीं जो छोटे दिल वाले खेलें
रूह तक काँप जाती है सदमे सहते-सहते

Ishk Wo Khel Nahi Jo Chhote Dil Wale Khele
Ruh Kanp Jaati Hain Sadame Sahate Sahate

48
अपने इमान की हिफाजत खुद से हैं मुकमल
रूह के मुआयने के लिए कोई आईना नहीं होता

Apane Imaan Ki Hifajat Khud Se Hai Mukammal
Ruh Ke Muaayane Ke Liye Koi Aayina Nahi Hota.

   रूह शायरी   

49
तेरी रूह में सन्नाटा है और मेरी आवाज़ में चुप्पी
तू अपने अंदाज़ में चुप, मैं अपने अंदाज़ में चुप

Teri Ruh Me Sannata Hai Aur Meri Aawaz Me Chuppi,
Tu Apane Andaz Me Chup, Mai Apane Andaaz Me Chup.

50
रूह तरसती है  तेरी खुशबू के लिए
तुम कहीं और महको तो बुरा लगता है

Ruh Tarasati Hai Teri Khushbu K Liye,
Tum Kahi Aur Mahako To Bura Lagata Hai.

51
किसी से जुदा होना इतना आसान होता तो
रूह को जिस्म से लेने फ़रिश्ते नहीं आते

52
कितना मुश्किल है जहाँ मे अच्छा दिलजानी होना
हुस्न के दौर में ईश्क का रूहानी होना

  रूह शायरी उर्दू   

53
बाद मरने के भी अरमान यही है ऐ दोस्त
रूह मेरी तिरे आग़ोश-ए-मोहब्बत में रहे

54
कभी इश्क़ करना तो बारिश की बूंदों सा करना
जो तन पे गिरे और अंदर तलक रूह भीग जाये

Kabhi Ishk Karana To Barish Ki Bundo Sa Karana,
 Jo Tan Par Gire Aur Andar Talak Ruh Bheeg Jaye.


____________________________________

55
मेरी रूह को छू लेने के लिए बस कुछ लफ्ज़ ही काफ़ी है
कह दो बस इतना ही की, तेरे साथ अभी जीना बाकी है

Meri Ruh Ko Chhu Lene Ke Liye Bas Kuchh Lafz Hi Kafi Hain,
Kah Do Bas Itana Ki, Tere Sath Abhi Jeena Baki Hain

56
है रूह को समझना भी जरुरी 
महज हाथो को थामना साथ नही होता 

57
कोइ मेरी रूह को जला कर यूँ चला गया है
देखो ना धुआँ धुआँ सी हो गइ है मेरी जिंदगी

58
तेरे वजूद से हैं मेरी मुक़म्मल कहानी
मैं खोखली सीप और तू मोती रूहानी

59
मैं ख्वाहिश बन जाऊँ, और तू रूह की तलब
बस यूँ ही जी लेंगे दोनों मुहब्बत बनकर

Mai Khwahish Ban Jau Aur Tu Ruh Ki Talab
Bas Yu Hi Ji Lenge Dono Mohabbat Banakar

60
जिस्म से रूह तक जाए तो  हकीकत है इश्क
और रूह से रूह तक जाए तो  इबादत है इश्क़

61
हर साँस सजदा करती है
हर नज़र में इबादत होती है

वो रूह  भी आसमानी होती है,
जिस दिल में महोब्बत होती है

62
सुनो ना अरमानों को यूँ ही मचलने दो,
आरजू मिलने की यूँ ही बरकरार रखना

यह जरूरी तो नही मुलाकत मुमकिंन हो,
मगर रूह से इश्क़ को यूँ ही आबाद रखना

63
इश्क ओर दोस्ती मेरे दो जहान है,
इश्क मेरी रुह, तो दोस्ती मेरी जान है

इश्क पर तो फिदा करदु अपनी पुरी जिंदगी,
पर दोस्ती पर मेरा इश्क भी कुर्बान है

64
रूह का रूह से वास्ता यू हो जाता है
नज़रे कह दे और दिल समझ जाता है

65
लिपटे रहते हैं तेरे अहसास , मेरी रूह सें हरदम
हरदम, खुद में तुम्हे महसूस करता हूँ मैं

66
रूह को छू जाती हैं तेरी नज़र,
इस कदर ना देखा करो हमें

तेरी नज़र में कुछ कशिश हैं,
कहीं मोहब्बत ना हो जाए हमें

67
मेरी रूह गुलाम हो गई है, तेरे इश्क़ में शायद
वरना यूँ छटपटाना, मेरी आदत तो ना थी

68
रूह की तड़प का  इलाज़ हो  तुम
कौन कहता है, मोहब्बत लाइलाज बीमारी है?

69
यकीनन तुमने रूह तक दस्तक दी होगी
सुना है दिल तक दस्तक देने वाले दर्द बहुत देते हैं

70
एहसास करा देती है रूह, जिनकी बातें नहीं होती
इश्क वो भी करते है जिनकी, मुलाकाते नहीं होती

=
दोस्तों आशा करता हूँ की "  70+ रूह शायरी 2 लाइन -  Rooh Status, Ruh Shayari  " यह भी पोस्ट पसंद आया होगा आप सभी को और आपने पढ़ा होगा "Rooh Shayari" रूह शायरी in Urdu, Rooh Statue, रूह शायरी 4 लाइन, के इस कलेक्शन को दोस्त अगर यह पोस्ट आपके दिल को छू लिया हो तो इसे जरूर से शेयर करे ताकि इस कलेक्शन को और भी दोस्त पढ़ सके. धन्यवाद आप सभी का आपने इस पोस्ट को अपना प्यार दिया.

No comments