65+ Best Sharab Shayari 2 Lines - शराब पर शायरी


65+ Best Sharab Shayari 2 Lines - शराब पर शायरी का संग्रह

दोस्तों आज का यह आर्टिकल Shayari On Topics पर आधारित हैं इस पोस्ट में आप पढ़ सकते हैं "Sharab Shayari 2 Linesशराब पर शायरी (Sharab Shayari in Urdu), Facebook Theme Post Sharab ShayariSharab Ki Shayari in HindiSharab Sad Shayari, शराब पर शेर ओ शायरी, हिंदी उर्दू में. 


65-Best-Sharab-Shayari-2-Lines
65+ Best Sharab Shayari 2 Lines - शराब पर शायरी 


कहते हैं शराब हर मर्ज की दवा होती हैं, दिल टुटा हो मोहब्बत रूठी हो या हो कोई भी ho ग़म हर एक का इलाज़ बड़े ही सलीके से करती हैं ये शराब. तभी तो इसे कहते हैं "दर्दे दिल की दवा हैं ये शराब" जो अपने आगोश में भर कर हर एक ग़म को नशे में मिटा देती हैं.  


तो आज इसी शराब  पर पर पढ़ते हैं, शराब पर बनी शेर-ओ शायरी के इस लाज़वाब कलेक्शन को उससे पहले एक ग़ज़ल की एक लाइन को गुनगुनाते हैं. जिसे लिखा हैं सरदार अंजुम ने और इसे अपनी सुरीली  आवाज़ दी हैं  पंकज उधास ने.

शराब चीज़ ही ऐसी है ना छोड़ी जाये ये मेरे यार के जैसी है ना छोड़ी जाये


1 

मत पूछ उसके मैखाने का पता ऐ साकी,

उसके शहर का तो पानी भी नशा देता है.



Mat Punchh Usake Maikhane Ka Pata E Saki,
Usake Shahar Ka Pani Bhi Nasha Deta Hai.

Sharab-Ki-Shayari-in-Hindi
Sharab Ki Shayari in Hindi
2 
मिलावट है तेरे इश्क में
इत्र और शराब की,

कभी हम महक जाते हैं
कभी हम बहक जाते हैं


Milawat Hai Tere Ishk ME

Itr Aur Sharab Ki,



Kabhi Ham Mahak Jate Hai,
Kabhi Ham Bahak Jaate Hai.

Sharab Shayari 2 Lines

3 
आए थे हँसते खेलते मय-ख़ाने में 'फ़िराक़'
जब पी चुके शराब तो संजीदा हो गए

Aaye The Hansate Khelate May-Khane Me "Firak"
Jab Pee Chuke Sharab To Sanjida Ho Gaye.



4 
तुम्हारी आँखों की तौहीन है, ज़रा सोचो
तुम्हारा चाहने वाला शराब पीता है.
Tumhari Ankhon Ki Tauhin Hai, Jara Socho,
Tumhaara Chahane Wala Sharaab Peeta Ho.

5 
मुझ तक कब उनकी बज़्म में आता था दौर-ए-जाम
साक़ी ने कुछ मिला न दिया हो शराब में.

Mujh Tak Kab Unaki Bazm Me Aata Tha Daure-E-Jaam,
Saki Ne Kuchh Mila Naa Diya Ho Sharab Me.

6 
हम तो समझे थे के बरसात में बरसेगी शराब
आई बरसात तो बरसात ने दिल तोड़ दिया.

Ham To Samjhate The Ke Barasaat Me Baresegi Sharab,
Ayi Barsaat To Barsat Ne Dil Tod Diya.

65+ Best Sharab Shayari 2 Lines


7 
उनकी आंखें यह कहती रहती हैं
लोग नाहक शराब पीते हैं.

Unaki Ankhe Yah Lahati Rahati Hai,
Log Nahak Sharab Peete Hai.

8 
तुम्हें जो सोचें तो होता है कैफ़-सा तारी,
तुम्हारा ज़िक्र भी जामे-शराब जैसा है.

Tumhe Jo Soche To Hota Hai Kaif-Sa Taari,
Tumhaara Zikr Bhi Jaame-Sharab Jaisa Hai.




9 

रह गई जाम में अंगड़ायाँ लेके शराब,

हम से माँगी न गई उन से पिलाई न गई 

10 
टूटे तेरी निगाह से अगर दिल हबाब का
पानी भी फिर पिएं तो मज़ा दे शराब का.

Tute Teri Nigaho Se Agar Dil Habaab Ka
Pani Bhi Fir Peeye To Maza De Sharab Ka.

11 

निगाह-ए-साक़ी से पैहम छलक रही है शराब,

पिओ की पीने-पिलाने की रात आई है.



Nigah-E-Saki Se Paiham Chhalak Rahi Hai Sharab,
Peeo Ki Peene-Peelane Ki Raat Aayi Hai.

Sharab Shayari in Urdu

12 

उन्हीं के हिस्से में आती है ये प्यास अक्सर,

जो दूसरों को पिलाकर शराब पीते हैं.



Unhi Ke Hisse Me Aati Hai Ye Pyaas Aksar,
Jo Dusaro Ko Peelakar Sharab Peete Hai.

13 


शराब पीने से काफ़िर हुआ मैं क्यूं,
क्या डेढ़ चुल्लू पानी में ईमान बह गया.

Sharab Peene Se Kafir Hua Mai Kyu,
Kya Dedh Chullu Pani Me Imaan Bah Gaya.



14 

बस एक इतनी वजह है मेरे न पीने की

शराब है वही साक़ी मगर गिलास नहीं.

Bas Ek Itani Wazah Hai Mere Na Peene Ki,
Sharab Hai Wahi Saki Magar Gilas Nahi.

15 
आज इतनी पिला साकी के मैकदा डुब जाए
तैरती फिरे शराब में कश्ती फकीर की.

Aaj Itani Pila Saki Ke Maikada Dub Jaye,
Tairati Fire Sharab Me Kashti Fakir Ki.

Sharab Shayari 2 Lines

16 
एसी शराब पी है कि इक दिन मेरा निशां
मस्जिद में खानकाह में ढूँढा करेंगे लोग.

Esi Sharab Pee Hai Ki Ek Din Mera Nishan,
Masjid Me Khankaah Me Dhundha Karenge Log.

17 
तेरी निगाह थी साक़ी कि मैकदा था कोई
मैं किस फ़िराक में शर्मिंदा-ए-शराब हुआ.

Teri Nigah Thi Saki Ki Maikada Tha Koi,
Mai Kisi Firaak Me Sharminda-E-Sharab Hua.

18 
तबसरा कर रहे हैं दुनिया पर
चदं बच्चे शराब खाने में

Tabsara Kar Rahe Duniya Par,
Chand Bachche Sharab Khane Me.


19 
मीर इन नीम बाज आखों में
सारी मस्ती शराब की सी है.

Meer In Neem Baaj Ankhon Me,
Sari Masti Sharab Ki Si Hai.

20 
तुम्हारी नीम निगाही में न जाने क्या था
शराब सामने आयी तो फैंक दी मैंने.

Tumhari Neem Nigahi Me Na Jane Kya Tha,
Sharab Samane Aayi To Faik Di Maine.

21 
मेरे इत्तक़ा का बाइस, तु है मेरी नातवानी
जो में तौबा तोड़ सकता, तो शराब ख़ार होता
अमीर मीनाई

Mere Ittaka Ka Bayis, Tu Hai Meri Natwani,
Jo Main Tauba Tod Sakata, To Sharab Khar Hota


22 

दारु चढ के उतर जाती है

पैसा चढ जाये तो उतरता नही


आप अपने नशे में जीते है
हम जरा सी शराब पीते है..
गुलज़ार

Daru Chadh Ke Utar Jaati Hai,
Paisa Chadh Jaye To Utarata Nahi.

Aap Apane Nashe ME Jeete Hai,
hAM jara Si Sharab Peete HAI.


23 

शोखियों में घोला जाये फूलों का शबाब

उस में फिर मिलाई जाये थोड़ी सी शराब

होगा यूँ नशा जो तैयार वो प्यार हैं
नीरज


Shokhiyo Me Ghola Jaaye Phoolon Ka Shabab,

Us Me Fir Milayi Jaaye Thodi Si Sharab

Hoga Yun Nasha Jo Taiyaar Wo Pyaar Hai..

Sharab Shayari in Urdu


24 
बे पिए ही शराब से नफ़रत
ये जहालत नही तो और क्या है?
साहिर लुधियानवी

Be Peeye Hi Sharab Se Nafarat
Ye Jahaalat Nahi To Aur Kya Hai?

25 
ग़ालिब छुटी शराब पर अब भी कभी-कभी
पीता हूँ रोज़ अब्र शबे-महताब में

Galib Chhuti Sharab Par Ab Bhi Kabhi-Kabhi
Peeta Hun Roz Abr-Mahataab Me.

26 
कभी मौक़ा लगे, कड़वे दो घूँट चख लेना
ज़रा तेरे लिये शराब छोड़ आए हैं.

Kabhi Mauka Lage, Ladawe Do Ghunt Chakh Lena,
Jara Tere Liye Sharab Chhod Aaye Hai.

27 
गज़लें अब तक शराब पीती थीं
नीम का रस पिला रहे हैं हम.

Ghazal Ab Tak Sharab Peeti Thi,
Neem Ka Ras Peela Rahe Hai Ham.

28 
उस शख्स पर शराब का पीना हराम है,
जो रहके मैक़दे में भी इन्सां न हो सका.

Us Shakhs Par Sharab Ka Peena Haraam Hai
Jo Rahake Maikade Me Insan N hO Saka.

29 
ज़ाहिद शराब पीने से , क़ाफ़िर हुआ मैं क्यों,
क्या डेढ़ चुल्लू पानी में , ईमान बह गया?

Zahid Sharab Peene Se, Kafir Hua Main Kyu?
Kya Dedh Chullu Pani ME, Imaan Bah gaya?


30 

पियूँ शराब अगर ख़ुम भी देख लूँ दो चार

ये शीशा-ओ-क़दह-ओ-कूज़ा-ओ-सुबू क्या है

ग़ालिब


Piyu Sharab Agar Khum Bhi Dekh Lun Do Char
Ye Shisha-O-Kadah-O-Kuza-O-Subu Kya Hai.

31 
आये कुछ अब्र कुछ शराब आये,
उसके बाद आये तो अज़ाब आये,

बाम-इ-मिन्हा से महताब उतरे,
दस्त-ए-साक़ी में आफ़ताब आये..

Aaye Kuchh Abr, Kuchh Sharab Aaye,
Usake Baad Aaye To Azaab Aaye,

Baam-E-Minha Se Mahataab Utare,
Dast-E-Saki Me Aaftaab Aaye..

32 
आमाल मुझे अपने उस वक़्त नज़र आए
जिस वक़्त मेरा बेटा घर पी के शराब आया.

Aamaal Mujhe Apane Us Waqt Nazar Aaye
Jis Waqt Mera Beta Ghar Pee Ke Sharab Aaya.

33 
ख़ुद अपनी मस्ती है जिस ने मचाई है हलचल
नशा शराब में होता तो नाचती बोतल.

Khud Apani Masti Hai Jis Ne Machayi Hai Halachal
Nasha Sharab Me Hota To Nachati Botal..

Sharab Shayari 2 Lines



34 

गिरी मिली एक बोतल शराब की, तो ऐसा लगा मुझे,

जैसे बिखरा पड़ा हो सुकून, किसी के एक रात का.


Giri Mili Ek Botal Sharab Ki, To Esa Laga Mujhe
Jaise Bikhara Pada Ho Sukun, Kisi Ke Ek Raat Ka.

35 
शराब के भी अनेक रंग हैं साक़ी,
कोई पीता है आबाद होकर,
तो कोई पीता है बर्बाद होकर

Sharab Ke Bhi Anek Rang Hai Saki
Koi Peeta Hai Aabad Hokar
To Koi Peeta Hai Barbaad Hokar.

Sharab-Shayari-urdu
Sharab Shayari Urdu

36 
झूठ कहते हैं लोग कि,
शराब ग़मों को हल्का कर देती है,
मैंने अक्सर देखा है लोगों को 
नशे में रोते हुए

Jhuth Kahate Hai Log Ki,
Sharab Gamo Ko Halka Kar Deti Hai
Maine Aksar Dekha Hain Logo Ko
Nashe Me Rote Huye.


37 

प्यार से भी गहरा हैं शराब का नशा

इसे दर्द में पीने पर ही हैं,

असली मज़ा

Pyaar Se Bhi Gahara Hai Sharab Ka Nasha
Ise Dard Me Peene par Hi Hai
Asali Maza..

Sharab-Status

38 
पहले तुझ से प्यार करते थे
अब शराब से प्यार करते हैं.

Pahale Tujhe Se Pyaar Karate The,
Ab Sharab Se Pyar Karate Hai.

39 
लोग जिंदगी में आये और चले गए
लेकिन शराब ने कभी धोखा नहीं दिया.
Log Zindagi Me Aaye Aur Chale Gaye,
Lekin Sharab Ne Kabhi Dhokha Nahi Diya.


40 
पीने से कर चुका था मैं तौबा मगर 'जलील'
बादल का रंग देख के नीयत बदल गई

Peene Se Kar Chuka Tha Main Tauba Magar "Zalil"
Baadal Ka Rang Dekh Ke Niyat Badal Gayi.


41 

थोड़ी सी पी शराब थोड़ी उछाल दी,

कुछ इस तरह से हमने जवानी निकाल दी,


Thodi Si Pee Sharab Thodi Uchhal Di,
Kuchh Is Tarah Se Hamane Jawaani Nikal Di..


42 

के आज तो शराब ने भी अपना रंग दिखा दिया,

दो दुश्मनो को गले से लगवा, दोस्त बनवा दिया.


Ke Aaj To Sharab Ne Bhi Apana Rang Dikha Diya
Do Dushamanon Ko Gale Se Lagawa, Dost Bana Diya.

65+ Best Sharab Shayari 2 Lines


43 
एक घूँट शराब की जो मैंने लबों से लगायी,
तो आया समझ कि इससे भी कड़वी है तेरी सच्चाई

Ek Ghut Sharab Ki Jo Maine Labo Se Lgayi,
To Aaya Samajh Ki Isase Bhi Kadvi Hai Teri Sachchyi.


44 

यूँ तौहीन न किजिये 

शराब को कड़वा कह कर,


जनाब ये ज़िन्दगी के तजुर्बे 
शराब से भी कड़वे होते हैं.

Yun Tauhin Naa Kijiye
Sharab Ko Kadawa Kah Kar,

Janaab Ye Zindagi Ke Tajurbe,
Sharab Se Bhi Kaduye Hote Hai..

45 
सोच था कुछ और, लेकिन हुआ कुछ और
इसीलिए ये भुलाने के लिए चले गए शराब की ओर

Soch Tha Kuchh Aur Lekin Hua Kuchh Aur
Isliye Ye Bhulane Ke Liye Chale Gaye
Sharab Ki Aor.


46 

हर जाम पी गया मैं, ऐ दर्दे-जिंदगानी,

फिर भी बड़ा तरसा हूं, कुछ और शराब दे दो.


Har Jaam Pee Gaya Main, E Darde-Zindagani,
Fir Bhi Tarasa Hun Kuchh Aur Sharab De Do.

चार लाइन शराब पर शायरी का संग्रह 

47 
अब क्या बताऊँ तुझको कि,
तेरे जाने के बाद इस दिल पर क्या-क्या बीती है,
अब तो हम शराब को और शराब हमको पीती है

Ab Kya Batau Tujhako Ki,
Tere Jaane Ke Baad Is Dil Par Kya-Kya Biti,
Ab To Ham Sharab Ko Aur Sharab Hamako Peeti Hai.

48 
प्यार और शराब में छोटा सा फर्क हैं
लेकिन ये फर्क बहुत बड़ा हैं

प्यार दर्द देता हैं
शराब दर्द भुला देता हैं.

Pyar Aur Sharab Me Chhota Sa Fark Hai,
Lekin Ye Fark Bahut Bada Hai.

Pyaar Dard Deta Hai,
Sharab Dard Bhula Deta Hai..

49 
मदहोश हम हरदम रहा करते हैं,
और इल्ज़ाम शराब को दिया करते हैं,

कसूर शराब का नहीं उनका है यारों,
जिनका चेहरा हम हर जाम में
तलाश किया करते हैं..

Madahosh Ham Hardam Raha Karate Hai,
Aur Ilzaam Sharab Ko Diya Karate Hai.

Kasur Sharab Ka Nahi Unaka Hai Yaaro,
Jinaka Chehara Ham Har Jaam Me
Talash kiya Karate Hai..

50 
तेरी आँखों के ये जो प्याले हैं,
मेरी अंधेरी रातों के उजाले हैं,

पीता हूँ जाम पर जाम तेरे नाम का,
हम तो शराबी बे-शराब वाले हैं.

Teri ANkhon Ke Ye Jo Pyaale hai,
Meri Andheri Raato Ke Ujaale Hai.

Peeta Hun Jaam Par Jaam Tere Naam Ka,
Ham To Sharabi Be-Sharab Wale..

51 
पूरा अब मेरा ये ख़्वाब हो जाये,
लिख दू उनके दिल पे किताब हो जाये,

ना मयकदे की जरूरत हो ना मयखाने की,
अगर नज़र से पिला दो शराब हो जाये..

Pura Ab Mera Ye Khwaab Ho Jaaye,
Likh Du Unake Dil Pe Kitab Ho Jaaye.

Na Maykade Ki Jarurat Ho Naa Maykhane Ki,
Agar Nazar Se Peela Do Sharab Ho Jaaye..

52 
इश्क़-ऐ-बेवफ़ाई ने डाल दी है आदत बुरी,
मैं भी शरीफ हुआ करता था इस ज़माने में,

पहले दिन शुरू करता था मस्जिद में नमाज़ से,
अब ढलती है शाम शराब के साथ मैखाने में..

Ishk-E-Bewafayi Ne Daal  Di Hai Aadat Buri,
Main Bhi Sharif Hua Karata Tha, Is Zamane Me.

Pahale Din Shuru Karata Tha Masjid Me Namaz Se,
Ab Dhalati Hai Sham Sharab Ke Sath Maikhane Me..

Best-Sharab-Shayari
Best Sharab Shayari

53 

पी के रात को हम उनको भुलाने लगे,

शराब में गम को मिलाने लगे,


दारू भी बेवफा निकली यारों,
नशे में तो वो और भी याद आने लगे..

Pee Ke Raat Ko Ham Unako Bhulane Lage,
Sharab Me Gam Ko Milane Lage.

Daru Bewafa Nikali Yaaro,
Nashe Me To Wo Aur Bhi Yaad Aane Lage..

Sharab Ki Shayari in Hindi

54 
पी है शराब हर गली हर दुकान से,
एक दोस्ती सी हो गई है शराब के जाम से,

गुज़रे हैं हम इश्क़ में कुछ ऐसे मुकाम से,
की नफ़रत सी हो गई है मुहब्बत के नाम से.

Pee Hai Sharab Har Gali Har Dukhan Se,
Ek Dosti Si Ho Gayi Hai Sharab Ke Jaam Se,

Guzare Hai Ham Ishk Me Kuchh Yese Mukaam Se,
Ki Nafarat Si Ho Gayi Hain, Muhabbat Ke Naam Se..



55 

शायरी वो नही लिखते हैं,

जो शराब से नशा करते हैं


शायरी तो वो लिखते हैं,
जो यादों से नशा करते हैं..

Shayari Wo Nahi Likhate HAI,
Jo Sharab Se Nasha Karate Hai.

Shayari To Wo Likhate Hai,
Jo Yaado Se Nasha Karate Hain..




56 

बैठे हैं दिल में ये अरमां जगाये,

के वो आज नजरों से अपनी पिलाये,


मजा तो तब ही आये पीने का यारो,
शराब हम पियें और नशा उनको हो जाए..

Baithe Hai Dil Me Ye Araman Jagaaye
Ke Wo Aaj Nazaro Se Apani Pilaye.

Maza To Tab Hi Aaye Peene Ka Yaaro,
Sharab Ham Peeye Aur Nasha Unako Ho Jaaye..

57 
मैं तोड़ लेता अगर तू गुलाब होती,
मैं जवाब बनता अगर तू सवाल होती,

सब जानते है मैं नशा नही करता,
मगर मैं भी पी लेता अगर तू शराब होती.

Main Tod Leta Agar Tu Gulab Hoti,
Main Jawaab Banata Tu Sawaal Hoti.

Sab Jaanate Hain Main Nasha Nahi Karata,
Magar Main Bhi Pee Leta Agar Tu Sharaab Hoti..



58 

पूरा अब मेरा ये ख़्वाब हो जाये,

लिख दू उनके दिल पे किताब हो जाये


ना मयकदे की जरूरत हो ना मयखाने की,
अगर नज़र से पिला दो शराब हो जाये..

Pura Ab Mera Ye Khwaab Ho Jaaye,
Likh Du Unake Dil Pe Kitaab Ho Jaaye.

Na Maykade kI Jarurat Ho Na Maykhane Ki,
Agar Nazar Se Peela Do Sharab Ho Jaaye..



59 

हर किसी बात का जवाब नहीं होता

हर जाम इश्क में ख़राब नहीं होता


यूँ तो झूम लेते है नशे में रहने वाले
मगर हर नशे का नाम शराब नहीं होता..

Har Kisi Baat Ka Jawaab Nahi Hota,
Har Jaam Ishk Me Kharab Nahi Hota

Yun To Jhum Lete Hain Nashe Me Rahane Wale
Magar Har Nashe Ka Naam Sharab Nahi Hota..

60 
जाम पे जाम पीने से क्या फायदा दोस्तों,
रात को पी हुयी शराब सुबह उतर जाएगी,

अरे पीना है तो दो बूंद बेवफा के पी के देख
सारी उमर नशे में गुज़र जाएगी ..

Jaam Pe Jaam Peene Se Kya Fayada Dosto,
Raat Ko Pee huyi Sharab Subah Utar Jaayegi,

Are Peena Hai To Do Bund Bewafa Ke Pee Ke Dekh,
Sari Umar Nashe Me Guzar Jaayegi..



61 

गम इस कदर मिला की घबरा के पी गये,

खुशी थोड़ी सी मिली तो मिला के पी गये,


यूँ तो ना थी जनम से पीने की आदत,
शराब को तन्हा देखा तो तरस खा के पी गये..

Gam Is Kadar Mila Ki Ghabara Ke Pee Gaye,
Khushi Thodi Si Mili To Mila Ke Pee Gaye,

Yun To Na Thi Janam Se Peene Ki Aadat
Sharab Ko Tanha Dekha To Taras Kha Ke Pee Gaye..

Sharab Ki Shayari in Hindi


61 

हमने पूछा कैसे, वो चले गए

हाथों मे जाम देकर



Hamne Punchha Kaise Wo Chale Gaye
Hatho Me Jaam Dekar.



62 

नशा मोहब्बत का हो या शराब का
होश दोनों में खो जाते है.

फर्क सिर्फ इतना है की शराब सुला देती है
और मोहब्बत रुला देती है

Nasha Mohabbat Ka Ho Ya Sharab Ka
Hosh Dono Me Kho Jaate Hai.

Fark Sirf Itana Hai Ki Sharab Sula Deti Hai,
Aur Muhabbat Rula Deti HAI..



63 

जाम में अफ़साने ढूंढते हैं हम लोग,

लम्हों में ज़माने ढूंढते हैं हम लोग,


तु ज़हर दे दे शराब कह कर सनम,
अब तो मरने के बहाने ढूंढते हैं हम लोग..

Jaam Me Afasaane Dhundhate Hai Ham Log,
Lamho Me Zamane Dhundhate Hain Ham Log.

Tu Zahar De-De Sharab Kah Kar Sanam,
Ab To Marane Ke Bahane Dhundhate Ham Log.



64 

कुछ चेहरे लाजवाब लगते हैं,

मोहब्बत के लम्हें शराब लगते हैं,


दर्द इतने सहे मोहब्बत में मैंने,
कि अब होश के पल खराब लगते हैं.

Kuchh Chehare Lazawaab Lagate Hai,
Mohabbat ke Lamhe Sharab Lagate Hai,

Dard Itane Sahe Mohabbat Me Maine
Ki Ab Hosh Ke Pal Kharab Lagte Hai..


65 


दोस्तों आज का यह पोस्ट 65+ Best Sharab Shayari 2 Lines - शराब पर शायरी  पसंद आई हो तो इसे शेयर जरुर करे अपने दोस्तों को . 


No comments