गुरु गोबिंद सिंह के 40 अनमोल वचन - 40+ Guru Gobind Singh Quotes in Hindi


गुरु गोबिंद सिंह के 40 अनमोल वचन - 40+ "Guru Gobind Singh Quotes in Hindi" पर दोस्तो आज का यह आर्टिकल आधारिति है जिसमे आप पढ़ सकते है गुरु गोबिंद सिंह के सर्वश्रेष्ठ अनमोल वचन और कथनों को जो आपके जीवन में  राज़ कर रहे स्वार्थ-कपट रूपी दानव को ख़त्म कर  को सत्य के मार्ग का दर्शन कराएगी

Guru-Gobind-Singh-Quotes-in-Hindi
गुरु गोबिंद सिंह के 40 अनमोल वचन - 40+ Guru Gobind Singh Quotes in Hindi

सिखों के दसवें गुरु गोबिंद जी का जन्म 22 दिसम्बर 1666 को बिहार के पटना जिले में हुआ था. इनके पिता जी का नाम गुरु तेगबहादुर था जो सिखों के नौवें दसवें गुरु थे. गुरु गोबिंद जी के पिता जी की मृत्यु 11 नवम्बर सन् 1675 को हुई तब गुरु गोबिंद जी सिखों के दसवें गुरु बने.

सन् 1699 में गुरु गोबिंद जी ने खालासा पंथ की स्थापना की,  उन्होने मुगलो के खि़लाफ़ 14 युद्ध लड़े और अपने परिवार की इन युद्धों मे बलिदान कर  दिया. और इसी बलिदान के कारण उन्हे सर्वदानी भी कहा जाता है.

गुरु गोबिंद सिंह के 40 अनमोल वचन - 40+ Guru Gobind Singh Quotes in Hindi

गुरु गोबिन्द जी सत्य के पुजारी थे. उन्होने कई ग्रंथों की रचना भी की उन्हे कई भाषाओं का ज्ञान था. हमेशा उन्होने सत्य, प्रेम आपस मे एकता और परमपिता परमेश्वर की भक्ति का लोगों को संदेश दिया. अपनी मधुरता, सहनशीलता, सौम्यता के कारण पहचाने जाते थे. विस्तार से जाने  wikipedia 

 तो दोस्तो आईये पढ़ते है गुरु गोबिंद सिंह के 30 अनमोल वचन  को जो हमे सत्य का मार्ग दिखाती है. गुरु गोबिंद सिंह के अनमोल उपदेश.


1

सवा लाख से एक लड़ाऊं, चिड़ियन ते मैं बाज तुड़ाऊं,

तबै गुरु गोबिंद सिंह नाम कहाऊं

2
अगर आप केवल अपने भविष्य के ही विषय  में सोचते रहें तो
आप अपने वर्तमान को भी खो देंगे.

Agar Aap Keval Apane Bhavishya Ke Hi Vishay Me Sochate Rahenge To,
Aap Apane Vartmaan Ko Bhi Kho Denge.

गुरु गोबिंद सिंह के अनमोल उपदेश

3
जब आप अपने अन्दर बैठे अहंकार को मिटा देंगे
तभी आपको वास्तविक शांति की प्राप्त होगी.

Jab Aap Aapane Andar Baithe Ahankaar Ko Mita Denge,
Tabhi Aapko Vastavik Shanti Ki Prapti Hogi.



4
मैं उन ही लोगों को पसंद करता हूँ
जो हमेशा सच्चाई के राह पर चलते हैं.

Main Un Logo Ko Pasand Karata Hun,
Jo Hamesha Sachchayi Ke Raah Par Chalate Hai.

5
भगवान्  ने हम सभी को जन्म दिया है
ताकि हम इस संसार में अच्छे कार्य  करें और समाज में फैली बुराई को दूर करें.

Bhagawaan Ne Ham Sabhi Ko Janm Diya Hai,
Taki Ham Is Sansaar Me Achchhe Kary Kare Aur Samaz Me Faili Burayiyo Ko Dur Kare.

गुरु गोबिंद सिंह के 40 अनमोल वचन 

6
इंसान से प्रेम करना ही,
ईश्वर की सच्ची आस्था और भक्ति है.

Insaan Se Prem Karana Hi,
Ishvar Ki Sachchi Astha Aur  Bhakti Hai.

7
अपने द्वारा किये गए अच्छे कर्मों से ही आप
ईश्वर को प्राप्त कर सकते हैं.
और अच्छे कर्म करने वालों की  ईश्वर सदैव सहायता करता है.

Aapane Dwara Kiye Gaye Achchhe Karmon Se Hi Aap,
Ishvar Ko Prapt Kar Sakate Hai,
Aur Achchhe Karm Karane Walo Ki Ishvar Sadaiv Sahaayata Karata Hai.

8
जो भी कोई मुझे भगवान कहता हैं ,
वो नर्क में चला जाए.

Jo Bhi Mujhe Bhagawan Kahata Hai,
Wo Nark Me Jaaye.

9
मुझको सदा उसका सेवक ही मानो.
और इसमें  किसी भी प्रकार का संदेह मत रखो.

Mujhako Sadaa Usaka Sevak Hi Maano,
Aur Isame Kisi Bhi Prakaar Ka Sandeh Mat Rakho.

10
जब इंसान के पास  सभी तरीके विफल हो जाएं,
तब ही  हाथ में तलवार उठाना सही है.

Jab Insaan Ke Paas Sabhi Tarike Vifal Ho Jaaye,
Tab Hi Hath Me Talwaar Uthana Chahiye.

11
निर्बल पर कभी अपनी तलवार चलाने के लिए उतावले मत होईये,
वरना  विधाता आप का ही खून बहायेगा.

Nirbal Par Kabhi Apani Talwaar Chalane Ke Liye Utawale Mat Hoyiye,
Warana Vidhaata Aap Ka Hi Khoon Bahayega.

12
हमेशा ही उसने अपने अनुयायियों को सुख  दिया है
और हर समय उनकी सहायता की है.

Hamesha Hi Usane Apane Anuyayiyo Ko Sukh Diya Hai,
Aur Har Samay Unaki Sahaayata Ki Hai.

Best 40+ Guru Gobind Singh Quotes in Hindi

13
हे प्रभु मुझे अपना आशीर्वाद प्रदान करे,
कि मैं कभी अच्छे कर्मों को करने में  तनिक भी संकोच ना करूँ.

He Prabhu Mujhe Aapana Ashirwaad Pradaan Kare,
Ki Mai Kabhi Achchhe Kaeno Ko KArane Me Tanik Bhi Sankoch Na Karu.

14
ये मित्र पूरी तरह से संगठित हैं, और ये फिर से कभी अलग नहीं होंगे,
क्युकि उन्हें स्वयं सृजनकर्ता भगवान् ने एक-जुट  किया है.

Ye mitra Puri Tarah Se Sangathit Hai, Aur Ye Fir Se Kabhi Alag Nahi Honge,
Kyuki Unhe Svayam Surjankarta Bhagawaan Ne Ek-Jut Kiya Hai.

15
इंसान को सबसे वैभवशाली सुख और स्थायी शांति तब ही प्राप्त होती है,
जब कोई अपने भीतर बैठे स्वार्थ को पूरी तरह से समाप्त कर देता है.

Insaan Ko Sabase Vaibhavshali Sukh Aur Sthayi Shanti Tab Hi Prapt Hoti Hai,
Jab Koi APane Bhitar Baithe Swarth Ko Puri Tarah Se Samapt Kar Deta Hai.

16
आप सदैव दिन-रात, हमेशा ईश्वर का स्मरण करे.

Aap Sadaiv Din-Raat, Hamesha Ishvar Ka Smaran Kare.

17
हर कोई उस सच्चे गुरु की प्रशंसा और  जयजयकार करे,
जो हमें भगवान की भक्ति के खजाने तक ले गया है.

Har Koi Us Sachche Guru Ki Prashansa Aur Jayjaykaar Kare,
Jo Hame Bhagawan Ki Bhakti ke Khazane Tak Le Gaya Hai.

18
भगवान के नाम के अलावा आपका कोई भी सच्चा मित्र नहीं है,
ईश्वर  के सभी अनुयायी  इसी का चिंतन करते हैं और इसी को देखते हैं.

Bhagawan Ke Naam Ke Alawa Aapka Koi Bhi Sachcha Mitr Nahi Hai.
Ishvar Ke Sabhi Anuyayi Isi Ka Chintan Karate Hai Aur Isi Ko Dekhhate Hai.



19
आपने ही इस सृष्टि की रचना की है,
आप ही सुख-दुःख के स्वामी हो.

Aapne Hi Is Srishti Ki Rachana Ki Hai,
Aap Hi Sukh-Dukh Ke Swami Ho.

20
आप ही  स्वयं ही स्वयं हैं,
आपने ही स्वयं  सृष्टि की रचना की हैं.

Aap  Hi Svayam Hi Svyam Hai,
Aap Ne Hi Srishti Ki Rachana Ki Hai.

21
सच्चे गुरु की सेवा करते हए ही आपको सम्पूर्ण शांति की प्राप्ति होगी,
जन्म और मृत्यु के सभी कष्ट मिट जायेंगे.

Sachche Guru Ki Sewa Karate Huye Hi Aapko Sampurn Shanti Ki Prapti Hogi,
Janm Aur Mrityu Ke Sabhi Kasht Mit Jayenge.

22
एक अज्ञानी व्यक्ति पूरी तरह से अंधा होता है,
क्युकि वह अज्ञानी व्यक्ति बहुमूल्य वस्तुओं की कद्र नहीं करता है.

Ek Agyani Vyakti Puri Tarah Se Andha Hota Hia,
Kyuki Wah Aghyani Vyakti Bahumulya Vastuon Ki Kadr Nahi Karata Hai.

Best 40+ Guru Gobind Singh Quotes in Hindi

23
ईश्वर ही स्वयं क्षमाकर्ता है.

Ishvar Hi Svyam Kshamakarta Hai.

24
गुरु के बिना किसी को भी
भगवान का नाम नहीं मिला है.

Guru Ke Bina Kisi Ko Bhi,
Bhagwan Ka Naam Nahi Milata.

25
बिना नाम के कोई शांति नहीं है.

Bina Naam Ke Koi Shanti Nahi Hai.

26
जो व्यक्ति भगवान के नाम  को सदैव सुमरिन करते हैं,
वे सभी शांति और सुख की प्राप्ति करते हैं.

Jo vyakti Bhagwaan Ke Naam Ko Sadaiv Sumrin Karate Hai,
We Sabhi Shanti Aur Sukh Ki Prapti Karate Hai.

गुरु गोबिंद सिंह के 40 अनमोल वचन 

27
 मैं उस गुरु के लिए न्योछावर हूँ,
जो हमें भगवान के उपदेशों का स्मरण कराता  है.

Main Us Guru Ke Liye Bichhawar Hun,
Jo Hame Bhagawaan Ke upadesho Ka Smaran Karata Hai.

28
सेवक नानक ईश्वर के दास हैं,
ईश्वर अपनी कृपा-दृष्टि  से, उनकी मान-मर्यादा  सुरक्षित रखते हैं.

Sevak Nanak ishvar Ke Daas Hai,
Ishavar Apani Kripa-Drishti Se, Unaki Maan-Maryaada Surkshit Rakahte Hai.



29
 इन्सान का स्वार्थ ही,
अनेक अशुभ विचारों को जन्म देता है.

Insaan Ka Swarth Hi,
Anek Ashubh Vicharo Ko Janm Deta Hia.

30
जो व्यक्ति दिन और रात परमत्मा का ध्यान करता है,
उसके लिए मै खुद को बलिदान करता हूँ.

Jo Vyakti Din-Raat Parmatma Ka Dhyan Karata Hia,
Usake Liye Main Khud Ko Balidaan Karata Hun.

31
हमें उन सभी अनुष्ठानों को और उन विचारो को ह्रदय से हटा देना चाहिए ,
जो हमें प्रभु  की भक्ति से दूर ले जाती हो.

Hame Un Sabhi Anushthano Ko Aur Un Vichaaro Ko Hrday Se Hata Dena Chahiye.
Jo Hame Prabhu Ki Bhakti Se Dur Le Jaaye.

32
 अपने कर्म करते हुए ईश्वर को सदैव  याद रखो,
और उनके बताये गए  मार्ग पर चलो और उसका अनुसरण करो.

Apane Karm Karate Huye Ishvar Ko Sadaiv Yaad Rakho
Aur unake Bataye Gaye Margo Par Chalo Aur Unaka Anusaran Karo.

33
आप अपनी  जीविका को चलाने के लिए ईमानदारी पूर्वक काम करे.

Aap Apani Jeevika Ko Chalaane Ke Liye,
Imandaari Purvak Kaam Kare.

34
हमेशा आप अपनी कमाई का दसवां भाग दान में दे दें.

Hamesha Aap Apani Kamayi Ka Dasawa Bhaag Daan Me De De.

35
गुरुबानी को आप पूरी तरह से कंठस्थ कर लें.

Gurubaani Ko Aap Kanthsth Kar Le.

गुरु गोबिंद सिंह के अनमोल उपदेश

36
अपने काम को लेकर लापरवाह ना बने में खूब मेहनत करें.

Apane Kaam Ko Lekar Laprwaah Naa Bane Khub Mehanat Kare.

37
आप अपनी जवानी, जाति और कुल धर्म को लेकर 
कभी भी घमंडी ना बने उससे हमेशा बचे.

Aap Apani Jawaani, Jaati Aur Kul Dharm Ko Lekar,
Kabhi Bhi Ghamandi Na Bane Usase Hamesha Bache.

38
हमेशा अपने दुश्मन से लड़ने से पहले,
 साम, दाम, दंड और भेद का सहारा लें, 
और अंत में ही आमने-सामने के युद्ध में पड़ें.

Hamesha Apane Dushman Se Ladane Se Phale,
Saam, Daam, Dand Aur Bhed Ka Sahaara Le,
Aur Ant Me Hi Aamane-Saamane Ke yuddh Me Pade.


39
किसी की भी इंसान की चुगली-निंदा ना करे उससे बचे, 
और किसी भी इंसान से ईर्ष्या करने के बजाय अपने कार्यो पर ध्यान दे.

Kisi Ki Bhi Insaan Ki Chugali-Ninda Naa Kare Usase Bache,
Aur Kisi Bhi Insaan Se Ishya Karane Ke Bajaay Apane Karyon Par Dhyaan De.

Best 40+ Guru Gobind Singh Quotes in Hindi

40
विदेशी नागरिक, दुखी व्यक्ति, विकलांग व जरूरतमंद इंसान की 
सदैव हृदय से मदद करें. 

Videshi-Nagarik, Dukhi Vyakti, Viklang V Jaruratmand Insaan Ki
Sadaiv Hraday Se Madad Kare.

41
अपने द्वारा किये गए सारे वादों पर,
 खरा उतरने की कोशिश करें. 

Apane Dwara Kiye Gaye Saare Waado Par,
Khara Utarane Ki Koshish Kare.

42
शरीर को नुक्सान पहुंचने वाले किसी भी प्रकार  के 
नशे और तंबाकू आदि का सेवन न करें.

Sharir Ko Nukasaan Pahuchane Wale Kisi Bhi Prkaar Ke
Nashe Aur Tambhakhu Ka Sevan Naa Kare.


दोस्तो अगर आपको गुरु गोबिंद सिंह के 40 अनमोल वचन - 40+ Guru Gobind Singh Quotes in Hindi का यह संग्रह पसंद आया हो तो इसे शेयर करना ना भुले ताकि आप के साथ आप के दोस्त भी Best 40 Guru Gobind Singh Thoughts In Hindi जीवन को नयी राह दिखाने वाले  विचारो का लाभ उठा सके कृप्या शेयर करे  Facebook, Whatsapp और  Google+ पर.


इन्हे भी पढ़े: