ओशो के 55 सर्वश्रेष्ठ विचार - Best 55 Osho Quotes in Hindi



यह आर्टिकल "ओशो रजनीश के 55 अनमोल विचार - Osho Quotes In Hindi" पर आधारिति है जिसमे आप पढ़ सकते है मध्य प्रदेश मे जन्में आध्यात्मिक गुरु ओशों के अनमोल विचार को जो जीवन को प्यार से जीने की कला सिखाती है और कठनाईयों से भरे जीवन को जीने के लिए सत्यमार्ग दिखाती हैं.

Best-55-Osho-Quotes-in-Hindi

आध्यात्मिक गुरु ओशों का जन्म भारत के मध्यप्रदेश में स्थित कुचवाड़ा स्थान पर 11 दिसम्बर 1931 मे हुआ था. इनके पिता श्री का नाम श्री बाबू लाल जैन था और माता जी का नाम सरस्वती जैन था. 

ओशो के बचपन का नाम चंद्रमोहन जैन था. जो की तारणपंथी दिगंबर जैन थे. वो अपनी माता पिता के ग्यारवीं संतान में सबसे बडे़ पुत्र थें. 

ओशो बचपन से ही अत्यन्त सरल और गंभीर स्वभाव के थें. और उन्हे शुरु से ही दर्शन शास्त्र मे रुची रही. उन्होने अपनी शिक्षा जबलपुर से की. शिक्षा पुरी करने के बाद जबलपुर यूनिवर्सिटी में ही लेक्चरर के रुप में पढ़ाने लगे.

फिर समय बदलता गया और उनका आध्यात्म के प्रति ज्ञान की वृद्धि होती गई. उसके बाद उन्होने अलग.अलग धर्मो और विचारधारा पर देश के अन्दर अपने प्रवचन देना प्रारम्भ कर दिया और उनकी प्रसिद्धि लगातार बढ़ती गई.

अपने प्रवचनों के साथ.साथ ध्यान शिविर का भी आयोजन करते थे. जिसके कारण उन्हे आचार्य रजनीश के नाम से भी लोग जानने लगे. इसी तरह उनकी प्रसिद्धि देश ही नही विदेशों तक फैलने लगी.

और उसके बाद सन 1981 से 1985 के बीच अमरीका रवाना हो गये और उन्होने वही अमरीकी प्रांत ओरगाॅना मे अपना एक आश्रम की स्थापना की जो 65 हजार एकड़ मे बनाया गया था.

अमरीका रहने के दौरान काफी विवाद भी उत्पन्न हुआं जब उन्होने ओरगाॅना मे स्थित अपने आश्रम को एक शहर की तौर पर रजिस्टर्ड कराना चाहा तब वहा के नगरिकों ने इसका जमकर विरोध किया.

और इसी चलते आखिरकार भारत लौट आयें भारत मे उनका आश्रम पुणे के कोरेगांव इलाके मे था. वही रहकर प्रवचन और ध्यान शिविर चलाने लगे.
आध्यात्मिक गुरु रजनीश ओशो का निधन 19 जनवरी, 1990 हो गया.

ओशो के 55 सर्वश्रेष्ठ विचार - Best 55 Osho Quotes in Hindi 

आध्यात्मिक गुरु ओशो  अपने खुले  विचारों के कारण काफी प्रसिद्ध थे जिसके कारण देश नहीं विदेशों तक उनके चाहने वाले बहुत मिले

अपने अंतरात्मा से निकले विचारो कारण उनकी बहुतों ने निंदा भी की लेकिन अपनी  निंदा सुनकर भी विचलित नहीं हुए. आज भी उनके विचार लोगो का मार्गदर्शन करती हैं.

तो देर कैसी  आईये पढ़ते हैं रजनीश ओशो के अनमोल विचार को और शेयर करते हैं अपने दोस्तों को सोशल मिडिया के Facebook, Whatsapp और Google+  पर.   

1
अपने आप  को खोजिये, नहीं तो 
आपको दुसरे लोगों के राय पर ही निर्भर रहना पड़ेगा, 
और वो जो खुद को नहीं जानते. 

Apane Aap Ko Khujiye, Nahi To
Aapko Dusare Logo Ke Raay Par Nirbhar Rahana Padega,
Aur Wo Jo Khud Ko Nahi Janate.



2
 आत्मा की सबसे बड़ी बीमारी गंभीरता है,
और चंचलता सबसे बड़ी सेहत है.

Atma Ki Sabase Badi Bimaari Gambhirata Hai,
Aur Chanchalata Sab Se Badi Sehat.

ओशो के 55 प्रेरणादायक सुविचार 

3
मेरे ज्ञान ने मुझे सभी चीज़ों से मुक्ति दिलवाई,
 जिसमें स्वयं ज्ञान भी शामिल है.

Mere Ghyan Ne Mujhe Sabhi Chizo Se Mukti Dilawayi,

Jisame Svyam Ghyan Bhi Shamil Hai.


4
अधिक से अधिक भोले, कम से कम  ज्ञानी और बच्चों की तरह बनिए. 
जीवन को आंनद  लेते हुए जिए, क्योंकि वास्तविकता में यही जीवन है.

Adhik Se Adhik Bhole, Kam Se Kam Ghyani Aur Bachcho Ki Tarah Baniye.
Jeevan Ko Annad Lete Huye Jiye, Kyuki Vastavikta Me Yahi Jeevan Hai.

5
प्रसन्नता सद्भाव की एक  छाया है; 
वो सद्भाव का ही  पीछा करती है. 
इससे सरल प्रसन्न रहने का कोई और तरीका नहीं है.

Prasnnata Sadbhav Ki Ek Chhaya Hai,
Wo Sadbhaav Ka Hi Peechha Karati Hai,
Isase Saral Prasanna Rahane Ka Koi Aur Tarika Nahi Hai.

6
जैन  लोग बुद्ध को इतना प्रेम करते हैं कि वो उनका मज़ाक भी उड़ा सकते हैं. 
ये ह्रदय में समाये अथाह प्रेम के कारण  से है; क्युकी उनमे डर नहीं है. सिर्फ प्रेम हैं.

Jain Log Buddh Ko iatana Prem Karate Hai Ki, Wo Unaka Mazaak Bhi Uda Sakate Hai.
Ye Hrday Me Samaaye Athah Prem Ke Kaaran Hai, Kyuki Uname Dar Nahi Hai, Sirf Prem Hai.

7
जब मैं यह कहता हूँ कि आप देवी-देवता हैं तो मेरा मतलब यह होता है कि 
आप में अनंत संभावनाएं है, आपकी क्षमताएं अनंत हैं.

Jab Mai Yah Kahata Hun Ki Aap Devi-Dewata Hai To, mera Matalab Yah Hota Hai,
Aap Me Annat Sambhawanayen Hai, Aapki Kshamataye Annat Hai.

8
प्यार एक पक्षी है जिसे आज़ाद रहना पसंद है. 
जिसे बढ़ने के लिए पूरे आकाश की जरूरत होती है.

Pyaar Ek Pankshi Hai Jise Aazaad Rhana Pasand Hai,

Jise Badhane Ke Liye Pure Aakaash Ki Jarurat Hai.


9
आत्मज्ञान एक समझ है कि और यही सबकुछ है, 
और यही बिलकुल सही है , और बस  यही है 
आत्मज्ञान कोई उप्लाब्धि नही है, 
बस यह  जानना है कि ना कुछ पाना है और ना ही कहीं जाना है.

Aatmaghyan Ek Samjh Hai Ki Aur Yahi Sabkuchh Hai,
Aur Yahi Bilakul Sahi Hai Aur Bas Yahi Hai,
Atmaghyan Koi Uplabdhi Nahi Nahi Hai,
Bas Yah Janana Hai Ki, Naa Kuchh Pana Hain Aur Naa Hi Kahi Jana Hai.  

10
यदि आप एक दर्पण बन सकते हैं तो, आप एक ध्यानी बन सकते हैं. 
ध्यान दर्पण में देखने की कला है. 
और तब, आपके अन्दर किसी भी प्रकार का विचार नहीं चलता
 इसलिए कोई आपको व्याकुलता नहीं होती.

YadiAap Ek Darpan Ban Sakate Hai To, Aap Ek Dhyaani Ban Sakate Hai.
Dhyaan Darpan Me Dekhane Ki Kalaa Hai,
Aur Tab Aapke Andar Kisi Bhi Prakaar Ka Vichaar Nahi Chalata
Isliye Koi Aapko Vyaakulta Nahi Hoti.

11
प्यार एक शराब है, आप  को उसका स्वाद लेना चाहिये, 
उसे पीना चाहिये, उसमें पूरी तरह से डूब जाना चाहिये. 
तभी आपको पता चल पाएंगे की वह क्या है.

Pyaar Ek Sharab Hai, Aap Ko Usaka Swaad Lena Chahiye,
Use Peena Chahiye, Usame Puri Traah Dub Jaana Chahiye,
Tabhi Aapko Pata Chal Payega Ki Wah Kya Hai.


12
अर्थ मनुष्य के द्वारा ही बनाये गए हैं . 
और चूँकि आप इस अर्थ को  लगातार जानने में लगे रहते हैं , 
इसलिए अपने  आपको अर्थहीन महसूस करने लगते हैं.

 Aarth Manushya Ke Dwara Hi Banaye Gaye Hai,
Aur Chuki Aap Is Arth Ko Lagaataar Jaanane Me Lage Rahate Hai,
Isliye Aapne Aapko Arthhin Mahasus Karane Lagate Hai.

13
आप वो बन जाते हैं जो आप सोचते हैं कि आप हैं.

Aap Wo Ban Jaate Hai, Jo Aap Sochate Hai Ki Aap Hai.

14
क्योंकि कोई आपको नफरत के बारे में  नहीं पढ़ाता है, 
और इसी कारण नफरत एकदम शुद्ध, बिना मिलावट के रह गयी है. 
जब कोई आपसे नफरत करता है तो , 
आप भरोसा कर सकते हैं कि वो आपसे नफरत करता है.


Kyuki Koi Aapko Nafarat Ke Baare Me Nahi Padhata Hai,
Aur Isi Kaaran Nafarat Ekdam Shuddh, Bina Milawat Ke Rah Jaati Hai.
Jab Koi Aapse Nafarat Karata Hai To,
Aap Bharosha Kar Sakate Hai Ki Wo Aapse Nafarat Karata Hai.

15
मनुष्य केवल संभावित रूप में जन्म को लेता है. 
वह अपने और दूसरों के लिए एक कांटा भी बन सकता है, 
और वह खुद  दूसरों के लिए एक फूल भी बन सकता है.

Manushya Keval Sambhavit Rup Me Janm Lrta Hai,
Wah Apanae Aur Dusare Ke Liye Ek Kanta Bhi Ban Sakata Hai,
Aur Wah Khud Dusaro Ke Liye Ek Phool Bhi Ban Sakata Hai.

16
जब भी आप प्यार की योजना बनाते हो 
और जब भी आपका ध्यान पूरी तरह से उसमें शामिल हो जाता है 
तब ये झुटा और पाखंडी बन जाता है.

Jab Bhi Aap Pyaar Ki Yojana Banate Ho,
Aur Jab Bhi Aapka Dhyaan Puri Tarah Se Usame Shamil Ho Jata Hai,

Tab Yah Jhutha Aur Pakhandi Ban Jata Hai.


17
जिस दिन आप ने यह सोच लिया कि आपने  सम्पूर्ण ज्ञान को प्राप्त कर लिया है, 
तो उसी पल आपकी मृत्यु हो जाती है,
 क्योंकि तब  ना कोई आश्चर्य होगा, ना ही किसी प्रकार का  आनंद और ना ही कोई आश्चर्य . 
बस आप एक मृत जीवन जियेंगे.

Jis Din Aapne Yah Soch Liya Ki 
Aapne Sampurna Ghyan Ko Prapt Kar Liya Hai.
To Usi Pal Aapki Mrityu Ho Jati Hai.
Kyuki Tab Naa Koi Ashchrya Hoga, Naa Hi Kisi Prakaar Kaa Aannad Hoga Aur Na hi Aashcharya,
Bas Aap Ek Mritya Jeevan Jiyenge.

17
एक महिला विश्व की सबसे सुन्दर कृति है, 
उसकी किसी से भी तुलना ना करें. 
भगवान द्वारा की गयी यह एक उत्कृष्ट कृति है.

Ek Mahila Vishv Ki Sabase Sundar Krti Hai,
Usaki Kisi Se Bhi Tulana Naa Kare,

Bhagawaan Dwara Ki Gayi Yah Ek Utkrishth Krti Hai.

ओशो के विचार, सुखी रहने का सफल मंत्र


18
सम्बन्ध ज़रुरत उनकी  हैं, जो अकेले नहीं रह सकते.

Sambndh Jarurat Unaki Hai, Jo AKele Nahi Rah Sakate.



19
नहीं, मैं कभी भी अपने लोगों को लाठियां नहीं देना चाहता.
 बस मैं उन्हें आँखें देना चाहता हूँ.

Nahi, Main Kabhi Bhi 
Apane Logo Ko Lathoyan Nahi Dena Chahata.
Bas Main Uunhe Ankhen Dena Chahata Hun.

20
जैसे-जैसे आप अधिक जागरुक होते जाते हैं 
इच्छाएं गायब होती जाती हैं. 
जब जागरूकता 100% हो जाती है, तब कोई इच्छा नहीं रह जाती.

Jaise-Jaise Aap Adhik Jagruk Hote Jate Hai
Ichchhaye Gayab Hoti Jati Hai.
Jab Jagrukta 100%  Ho Jati, Tab Koi ichchh Nahi Rah Jati.

Osho Quotes In Hindi

21
सच्चा प्रेम अकेलेपन से बचना नहीं होता है, 
सच्चा प्रेम बहता हुआ अकेलापन है. 
अकेले रहने में कोई इतना खुश रहता है कि वो इसे बांटना चाहता है.

Sachcha Prem Akele Pan Se Bachana Nahi Hota Hai,
Sachcha Prem Bahata Hua Akelapan Hai,
Akele Rahane Me KoI Itana Khush Rahata Hia Ki Wo Ise Batana Chahata Hai.

22
 जिंदगी कोई मुसीबत नहीं है 
 ये तो एक खूबसूरत तोहफा है.

Zindagi Musibat Nahi Hai,

Ye To Ek Khubsurat Tohafa Hai.


23
वो जो आपको दुखी बनाता है केवल वही पाप है. 
और यही  जो आपको खुद से दूर ले जाता है 
केवल उसी से बचने की आपको ज़रूरत है.

 Wo Jo Aapko Dukhi Bananata Hai Keval Wahi Paap Hai,
Aur Yahi Jo Aapko Khud Se Dur Le Jaata Hai,
Keval Usi Se Bachane Ki Aapko Jarurat Hai.

24
मनुष्य का जीवन कोई त्रासदी नहीं है, ये एक हास्य है.. 
जीवित रहने का मतलब होता हैं  हास्य का बोध होना.

Manushya Ka Jeevan Trasadi Nahi Hai, Ye Hasy hai.
Jeevit Rahane Ka Matalab Hota Hai, Hasy Ka Bodh Hona.

25
एक शराबी बने, जिसमें जीवन के अस्तित्व की शराब को पिए. 
कभी भी मासूम ना बने, क्योंकि मासूम हमेशा मरे हुए होते है.

Ek Sharabi Bane, Jisame Jeevan Ke Astitav Ki Sharab Piye,

Kabhi Masum Na Bane, Kyuki Masum Hamesha Mare Huye Hote Hai.

ओशो के 55 प्रेरणादायक सुविचार 


26
कोई प्रबुद्ध कैसे बन सकता है? 
बन सकता है, क्योंकि वो प्रबुद्ध होता है,
उसे तो बस इस तथ्य को पहचानना होता है.

Koi Prabuddh Kaise Ban Sakata Hai?
Ban Sakata Hai, Kyuki Wo Prabuddh Hota Hai,
Use To Bas Is Tathya Ko Pahachanaa Hota Hia.

27
मित्रता शुद्धतम प्रेम है. 
ये प्रेम का सर्वोच्च रूप है जहाँ कुछ भी नहीं माँगा जाता , 
और ना कोई शर्त होती , बस वहा देने के लिए  आनंद होता  है.

Mitrata Shudhtam Prem Hai,
ye Prem Ka Sarvochcha Rup Hai, 
Janha Kuchh Bhi Nhai Manga Jata,
Aur Naa Koi Shart Hoti Hai, 
Bas Wahaa Dene Ke Liye Aannad Hota Hai.

28
आप जब चाहे जितने  लोगों को प्रेम कर सकते हैं,
 इसका ये बिलकुल मतलब नहीं है कि,
आप एक ही दिन दिवालिया हो जायेंगे, 
और कहेंगे, अब मेरे पास प्रेम बचा ही नहीं.
जहाँ तक प्रेम का सवाल है, 
तो आप  प्रेम करके दिवालिया नहीं हो सकते.

Aap Jab Chahe Jitane Logo  Ko Prem Kar Sakate Hai,
Isaka Ye Bilkul Matalab Nahi Hai Ki,
Aap Ek Hi Din Me  Diwaliya Ho Jayenge,
Janha Tak Prem Ka Sawaal Hai,
To Aap Prem Karane Ke Diwaaliyan Nhai Ho Sakate.

29
वह इंसान जो भरोसा करता है वह जिंदगी में आराम करता है. 
और वह इंसान जो भरोसा नहीं करता वह परेशान, 
डरा हुआ और कमजोर रहता है.

Wah Insaan Jo Bharosha Karata Hai Wah Zindagi Me Aaram Karata Hai.
Aur Wah Insaan Jo Bharosha Nhai Karata Wah Pareshan,

Dara Hua Aur Kamjor Rahata Hai.


30
जैन  एकमात्र धर्म है जो एका-एक आत्मज्ञान को सीखता है. 
और इसका कहना है कि आत्मज्ञान में कोई समय नहीं  लगता, 
ये बस कुछ  क्षणों ही में ही आपको हो सकता है.

Jain Ekmatra Dharm Hai 
Jo Eka-ek Aatmaghyan Ko Sikhata Hai,
Aur Isaka Kahana Hai Ki 
Aatmghayan Me Koi Samay Nahi Lagata,
Ye Bas Kuchh Kshanon Me Aapko Ho Sakata Hai.

31
कभी ये मत पूछो,  मेरा सच्चा मित्र कौन है?
 पूछो, क्या मैं किसी का सच्चा मित्र हूँ? 
यही उत्तम प्रश्न है.

 Kabhi ye Mat Puchho, Mera Sachcha Mitra Kaun Hai?
Puchho, Kya Main Kisi Ka Sachchha Mitra Hun?
Yahi Uttam Prashn Hai.

32
जब आप अलग हैं तो, पूरी दुनिया अलग है. 
और ये दूसरी दुनिया बनाने का सवाल नहीं है. 
ये केवल एक अलग अपने आप को  बनाने का सवाल है.

Jab Aap Alag hai To, Puri Duniya Alag Hai,
Aur Ye Dusari Duniya Banane Ka Sawal Nahi Hai.
Ye keval Ek Alag Aapne Aap Ko Banane Ka Sawal Hai.

33
यदि आप प्यार से रहते हो, प्यार के साथ रहो,
तो आप एक महान जिंदगी जी रहे हो,
 क्योंकि प्यार ही जिंदगी को महान बनाता है.

Yadi Aap Pyaar Se Rahate Ho, Pyar Ke Sath Raho,
To Aap Ek Mahaan Zindagi Ji Rahe Ho,

Kyuki Pyaar Hi Zindagi Ko Mahaan Banata Hai.


34
शेयर  करना सबसे  मूल्यवान धार्मिक अनुभव है. 
शेयर करना सबसे अच्छा है.

Sharing Karana Sabase Mulyvaan Dharmik Anubhav Hai
Sharing Karana Sabase Achchha Hai.

35
सवाल  ये नहीं है कि कितना और सीखा जा सकता है,
इसके उलट, सवाल ये है कि उसे कितना भुलाया जा सकता है.

Sawaal Ye Nahi Hai Ki Kitana Aur Sikha Jaa Sakata Hai,
Isake Ulat, Sawaal ye Hai Ki, Kitana Bhulaya Ja Sakata Hai.

36
उस तरह आप मत चलिए जिस तरह डर आपको चलाये. 
उस तरह आप चलिए जिस तरह प्रेम आपको चलाये. 
और उस तरह चलिए जिस तरह ख़ुशी आपको चलाये.

Us Tarah Aap Mat Chalaye Jis Tarah Dar Aapko Chalaye.
Us Tarah Chaliye Jis Tarah Prem Aapko Chalaye
Aur Us Tarah Chaliye Jis Tarah Khushi Aapko Chalaye.

37
मनुष्य का जीवन 
ठहराव और गति के बीच का संतुलन है.

Manushy Ka Jeevan,
Thaharaav Aur Gati Ke Beech Ka Santulan Hai.

38
प्यार की सर्वश्रेष्ठ सीमा आज़ादी है, पूरी आज़ादी.
 किसी भी रिश्ते के खत्म होने का मुख्य कारण आज़ादी का न होना ही है.

Pyar Ki Shreshtha Seema Aazadi Hai, Puri Aazadi,

Kisi Bhi Rishte Ke Khatm Hone Ka Mukhya Karaan Aazadi Ka Naa Hona.

39
किसी भी प्रकार का चुनाव मत करिए. 
जीवन को ऐसे अपनाइए जैसे वो अपनी समग्रता में है.

Kisi Bhi Prakaar Ka Chunaav Mat Kariye,
Jeevan Ko Yese Apanayiye Jaise Wo Apani Samgrta Me Hai.

40
यहाँ कोई भी आपका सपना पूरा करने के लिए नहीं है. 
हर कोई को अपनी तकदीर और अपनी हक़ीकत बनाने में लगातार लगा है.

Yahan Koi Bhi Aapka Sapana Pura Karane Ke Liye Nahi Hia,
Har Koi Ko Apani Takdir Aur Apani Haqikat Banane Me Lgataar Laga Hai.

41
केवल वो लोग जो कुछ भी नहीं बनने के लिए तैयार हैं,
 वो लोग प्रेम कर सकते हैं.

Kewal Wo Log 
Jo Kuchh Bhi Nahi Banane Ke Liye Taiyaar Hai,
Wo Log Prem Kar Sakate Hai.


ओशो के 55 सर्वश्रेष्ठ विचार - Best 55 Osho Quotes in Hindi 


42
नर्क  हमारे द्वारा की गयी  रचना है, 
और हम असंभव करने के  प्रयास में  नर्क बनाते हैं. 
स्वर्ग हमारी प्रकृति है, यह हमारी सहजता है. 
ये वो जगह है जहाँ हम हमेशा होते हैं.

Nark Hamare Dwara Ji Gayi Rachana Hai,
Aur Ham Asambhav Karane Ke Prayas Me Nark Banate Hai,
Swarg Hamari Prakti Hai, Yah Hamari Sahajata Hai,
Ye Wo Jagah Hai Janha Ham Hamesha Hote Hai.

43
मुझे आज्ञाकारी लोगों जैसे अनुयायी नहीं चाहिये. 
मुझे बुद्धिमान दोस्त चाहिये, 
जो यात्रा के समय मेरे सहयोगी हो.

Mujhe Aghyakaari Logpo Jaise Anuyayi Nahi Chahiye,
Mujhe Buddhimaan Dost Chahiye,

Jo Yatra Ke Samay Mere Sahyogi Bane.




44
बीते हुए कल के कारण बेकार में बोझिल ना हों. 
जो पाठ आप ने पढ़ लिए हैं उन्हें बंद करते जाएं,
बार-बार उनको पढ़ने की जरुरत  नहीं है.

 Bite Huye Kal Ke Kaaran Bekaar Me Bojhil Naa Ho,
Jo Paath Aapne Padh Liya Hai, Inhe Band Karate Jaaye
Baar-Baar Unako Padhane Ki Jarurat Nhai.

45
अगर बिना प्रेम के आप कार्य  करते हैं  
तो आप एक गुलाम की तरह काम कर रहे हैं. 
जब आप प्रेम के साथ काम करते हैं, 
तब आप एक राजा की तरह काम करते हैं. 
आपका काम आपकी ख़ुशी है, 
आपका काम आपका मनोरंजन है.

Agar Bina Prem Ke Aap Kary Karate Hai,
To Aap Ek Gulaam Ki Tarah Kaam Kar Rahe Hia.
Jab Aap Prem ke Sath Kaam Karate Hai,
Tab Aap Ek Raaja Ki Tarah Kaam Karate Hai.
Aapka Kaam Aapki Khushi Hai
Aap Ka Kaam Manoranjan Hai.

46
इस संसार में मनुष्य का 
हमेशा डर के माध्यम से  ही शोषण किया जाता है.

Is Sansaar Me Manushya Ka
Hamesha Dar Ke Madhyam Se Hi 
Shoshan Kiya Jaata Hai.

47
श्रेष्ठता से सोचने वाला हमेशा तुच्छ कहलाता है, 
क्योंकि ये एक ही सिक्के के दो पहलू है.

Shreshtha Se Sochane Wala Hamesha Tuchchh Kahalata Hai,

Kyuki  Ye Ek Sikke Ke Do Pahalu Hai.


48
आप बाहरी रूप को बदलते हुए कई ज़िंदगियाँ लगा देंगे
 फिर भी आप कभी संतुष्ट नहीं हो पायेंगे, 
जब-तक कि आपके भीतर बदलाव नहीं होगा, 
बाहर कभी भी परफेक्ट  नहीं हो सकता है.

Aap Bahari Rup Ko Badalate Huye 
Kayi Zindagiyan Laga Denge
Fir Bhi Aap Kahi Santusht Nahi Ho Payenge,
Jab Tak Ki Aapke Bhitar Badalav Nahi Hoga.
Bahaar Kabhi Bhi Perfect Nahi Ho Sakata.

49
किसी से किसी भी तरह की प्रतिस्पर्धा की कोई भी आवश्यकता नहीं है. 
आप स्वयं में जैसे हैं वैसे एकदम सही हैं. 
आप अपने आपको को स्वीकारिये.

Kisi Se Kisi Bhi Tarah Ki Pratosprdha Ki Koi Aavshykta Nahi Hai,
Aap Svaym Me Jaise Hai Wese Ekdsam Sahi Hai,
Aap Apane Aapko Svikariye.

50
मूर्ख इंसान दूसरों पर हँसते हैं. बुद्धिमत्ता स्वयं खुद पर.

Murkh Insaan Dusaro Par Hansate Hai,
Budhimaan Svyam Khud Par.

51
आपका विवाह राजनीतिक शासन करने का छोटा रूप है. 
जिसमें आपके माता और पिता छोटे राजनेता होते है.

Aapka Vivaah Rajnitik Shasan Karane Ka Chhota Sa Rup Hai,

Jisame Aapke Mata-Pita Chhote Rajneta Hote Hai.


52
अगर आप सच को देखना चाहते हैं तो 
अपनी हां और ना में राय रखिये.

Agar Aap Sach Ko Dekhana Chahate Hai To,
Apani Haa Aur Naa Me Raay Rakhiye.

"Osho Quotes In Hindi"

53
जब इंसान के समाने प्यार और नफरत दोनों ही ना हो तो
 हर चीज साफ़ और स्पष्ट हो जाती है.

Jab Insaan Ke Samane Pyaar Aur Nafarat Dono Hi Ho To,
Har Chiz Saaf Aur Spsht Ho Jati Jati Hai.

54
 एक गंभीर व्यक्ति कभी मासूम नहीं हो सकता, 
और जो मासूम है तो  वो कभी गंभीर नहीं हो सकता.

Ek Gambhir Vayakti Kabhi Masum Nahi Ho Sakata.
Aur Jo Masum Hai To Wo Kabhi Gambhir Nahi Ho Sakata.

55
खुद को वैसे स्वीकार करें जैसे आप हैं. 
और ये दुनिया का सबसे कठिन काम है, 

Khud Ko Wese Sveekar Kare Jaise Aap Hai
Aur Ye Duniya Ka Sabase Kathin Kaam Hai.

56
अपने जीवन को संगीतपूर्ण बनाओ, 
ताकि काव्य का जन्म हो सके, और फिर सौंदर्य ही सौंदर्य है,
 और सौंदर्य ही परमात्मा का स्वरूप है.

Apane Jeevan Ko Sangeetpurn Banao,
Taki Kavya Ka Janm Ho Aur Fir Saundrya Hi Saundrya  Hai.

Aur Saundrya Hi Prmatma Ka Svrup Hai.


57
सत्य कुछ बाहरी नही है जिसको  खोजा जाना है,
ये कुछ अंदरूनी है जिसका एहसास किया जाना है.

Satya Kuchh Bahari Nahi Hai Jisako Khoja Jaana Hai,
Ye Kuchh Andaruni Hai Jisaka Ehasaas Kiya Jaana Hai.